पाक उच्चायुक्त अब्दुल बासित को अब संघ ने इफ्तार में आने से किया मना

नई दिल्ली (28 जून): देश में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित को जो इफ्तार का न्योता संघ से जुड़े मुस्लिम राष्ट्रीय मंच ने दिया था। वो न्योता अब संघ ने वापस ले लिया है। अब्दुल बासित को अब संघ ने इफ्तार में आने से मना किया है। 

आपको बता दें कि संघ से जुड़ा मुस्लिम राष्ट्रीय मंच दो जुलाई को इफ्तार पार्टी देने वाला है। जिसके लिए पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित को न्योता दिया गया था। बासित को न्योता देने के मुद्दे पर कांग्रेस ने सवाल उठाया था। कि एक तरफ पाकिस्तान आतंकी हमले करा रहा है। दूसरी तरफ सरकार और संघ उसके उच्य़ायुक्त को इफ्तार की दावत दे रहे हैं। 

संघ ने तो विवाद बढ़ने पर अब्दुल बासित को इफ्तार में आने का दिया न्योता वापस ले लिया है। लेकिन आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को लेकर जो नरमी मोदी सरकार के मंत्री बरत रहे हैं, उसका क्या। दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने पंपोर अटैक के सवाल पर कहा था कि हमले की बात छोड़िए। चलिए इफ्तार पार्टी एंज्वॉय करते हैं। लेकिन जब बासित के इस बयान पर विदेश राज्य मंत्री जनरल वी के सिंह से सवाल हुआ तो वो कहने लगे, मुझे जानकारी नहीं। 

पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित के जिस विवादित बयान को लेकर पूरा देश पाकिस्तान पर लानत भेजना लगा। जिस विवादित बयान पर दो दिनों तक दिल्ली से पाकिस्तान तक सियासत गर्म हुई। जिस बयान ने अखबारों और न्यूज चैनलों में जगह बनाई। जिस बयान ने फिर एकबार आतंकवाद पर पाकिस्तान के दोहरे चरित्र को उजागर किया उस बयान के बारे में केंद्रीय मंत्री वीके सिंह को कुछ भी मालूम नहीं है। आपको ये भी बता दें कि मौजूदा केंद्रीय मंत्री खुद भी आर्मी के मुखिया रह चुके हैं।

अब्दुल बासित के बयान पर केन्द्रीय मंत्री वी के सिंह के बेहद ही नरम बोल सामने आए हैं। केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि उन्हें अब्दुल बासित का बयान के बारे में कुछ भी नहीं पता है। पंपोर हमले के बाद अब्दुल बासित ने बयान दिया था कि अभी हमले की बता नहीं करे अभी इफ्तार पार्टी एंज्वाय करने दें।

पंपोर में आतंकी हमारे जवानों को शहीद कर रहे थे। आतंकियों की गोलियों से जवानों का सीना छलनी हो रहा था , पाकिस्तान के पोसे आतंकी ने पुलिस बस पर हमला कर दिया था ठीक उसी दिन अब्दुल बासित ने ये बयान दिया था। ये बयान  भारत के सभी नागरिकों  को छुभ गया था लेकिन मंत्री को पता ही नहीं चला। कांग्रेस ने भी पंपोर हमले पर नरमी बरतने के लिए सरकार की खिंचाई की और कहा कि जवान मारे जा रहे हैं और बीजेपी पाकिस्तानी को इफ्तार पार्टी देने में व्यस्त है।

अब्दुल बासित के बयान को संवोदनहीन करार दिया था लेकिन भारत के केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के इस संवेदनहीन बयान के बाद सरकार की मंशा पर सवाल उठना लाजिमी है कि आखिर सरकार पाकिस्तान के प्रति इतना नरम क्यों पड़ गई है।