1 रुपये की कैंडी से पिछड़ गयी कई सौ करोड़ों वाली मल्टीनेशनल कंपनियां

नई दिल्ली (9 मार्च): मार्केट में 1रुपये में बिकने वाली कैंडी 'पल्स' करोड़ों का कारोबार करके दुनिया को चौंका रही है। आज पल्स पार्ले की मेंगो बाइट और इटली की एलपेन्लिबे के बाद तीसरे नंबर की कैंडी बन गयी है। 2015 में रजनीगंधा और कैच पानी बनाने वाली कंपनी डीएस (धर्मपाल-सत्यपाल) ग्रुप ने कच्चे आम के स्वाद वाली टॉफी पल्स को लॉन्च किया था। पल्स कैंडी ने लॉन्चिंग के 8 महीने के अंदर 100 करोड़ रुपये का आंकड़ा छू लिया था। पिछले महीने 1 रुपए कीमत वाली पल्स ने 300 करोड़ की सेल्स करते हुए ओरियो जैसी मल्टी नैशनल कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है। 2011 में भारत लॉन्च हुए ओरियो की सेल्स 283 करोड़ रुपए रही। पल्स का अब तक का सफर सफलता की कहानी रहा है। कोका-कोला के खूब प्रचारित किए गए प्रॉडक्ट कोक जीरो का सेल्स फीगर 120 करोड़ रुपए रहा। भारत में प्रतिस्पर्धा को देखते हुए पल्स का प्रदर्शन काबिल-ए-तारीफ है।