ट्रेनों के स्टंटबाजों को समझाने के लिए पुलिस ने दिखाई गांधीगीरी

मुंबई (10 जुलाई): मुंबई की लोकल ट्रेनों के स्टंटबाजों को समझाने के लिए पुलिस ने गांधीगीरी का रास्ता अपनाया है। आरपीएफ ऐसे स्टंटबाजों को पकड़कर बंद करने के बजाय उनका आदर-सत्कार कर रही है, जो कभी पुलिस के जवान लाठी-डंडे लेकर इन स्टंटबाजों के पीछे भागते थे। आज वो फूल माला लेकर इनके आदर-सत्कार में खड़े हैं।

गिरफ्तारी के बजाय उन्हें गुलदस्ते दिए जा रहे हैं। लोकल के इन स्टंटबाजों को माला पहनाकर उनका स्वागत किया जा रहा है। लाउडस्पीकर के जरिए भी उनसे ऐसा न करने की अपील की जा रही है। साथ ही गांधीगीरी के जरिए उन्हें ऐसा न करने की सलाह दी जा रही है।

दरअसल स्टंट के दौरान होने वाले हादसों को रोकने के लिए रेलवे पुलिस ने एक मुहिम की शुरुआत की है। इसके तहत गांधीगीरी के जरिए लोकल ट्रेनों में स्टंट करने वाले युवाओं को ऐसा न करने की सलाह दी जा रही है। पहले तो पुलिसवालों को देखकर ये युवा डरकर भागने लगते हैं। लेकिन जैसे ही इनके गले में माला पड़ती है।

ये शर्माकर माफी मांग लेते हैं। रेलवे स्टेशनों पर होने वाले हादसों में जून 2016 तक हार्बर लाइन में ट्रेन की छत पर य़ात्रा करने वाले 16 लोगों की मौत हो चुकी है। अब देखना होगा कि आरपीएफ की ये गांधीगीरी कितनी कामयाब हो पाती है, लेकिन ये पहल वाकई अच्छी है।