जिस देश में महिलाओं के कार चलाने पर रोक, वहां महिलाएं विमान उड़ा कर लाईं

नई दिल्ली (16 मार्च) : रॉयल ब्रूनेई एयरलाइंस की तीन महिला पायलट्स ने इतिहास कायम किया है। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक ब्रुनेई के राष्ट्रीय दिवस पर महिलाओं ने ब्रूनेई से सऊदी अरब के शहर जेद्दाह के लिए उड़ान भरी। बोईंग 787 ड्रीमलाइनर को उड़ा कर जेद्दाह लाने वाली महिला पायलट्स के नाम हैं- फ्लाइट पायलट शरीफा सेज़ेरेना, सीनियर फर्स्ट ऑफिसर्स- सारियाना नोर्दिन और नादिया पीजी खाशेयाम।

बता दें कि सऊदी अरब में महिलाओं के ड्राइविंग करने पर रोक हैं, इसलिए वे कार नहीं चला सकतीं। महिलाओं पर इस तरह की बंदिश वाला सऊदी अरब दुनिया का अकेला देश है। दिलचस्प बात ये है कि ब्रुनेई की पायलट्स 23 फरवरी को ब्रुनेई के राष्ट्रीय दिवस पर विमान उड़ा कर जेद्दाह तो ले आईं। लेकिन उन्हें एयरपोर्ट के बाहर निकलने पर कार से सफ़र करने के लिए पुरुष ड्राइवर की ज़रूत पड़ी।

सऊदी अरब में महिलाएं बीते साल ही म्युनिसिपल चुनाव में पहली बार महिलाओं को वोटिंग और चुनाव लड़ने का अधिकार मिला है। लेकिन महिलाओं पर ड्राइविंग पर रोक समेत कई तरह की बंदिशें हैं।

कैप्टन सेज़ेरेना ने पायलट ट्रेनिंग ब्रिटेन में ली है। दिसंबर 203 में वे रॉयल ब्रूनेई की पहली पायलट बनीं जिन्होंने लंदन हीथ्रो हवाई अड्डे से बोइंग 787 ड्रीमलाइनर के साथ उड़ान भरी। कैप्टन सेज़ेरेना का कहना है कि ब्रुनेई की एक महिला होने के नाते ये बहुत बड़ी उपलब्धि है। ये युवा पीढ़ी की लड़कियों को बताता है कि वो जो भी सपना देखे, उसे पूरा करने की क्षमता रखती हैं।