रोहतक के राक्षस कब नपेंगे ?

नई दिल्ली (19 जुलाई): हरियाणा के रोहतक में दलित लड़की के साथ गैंगरेप के मामले की गूंज सड़क से संसद तक सुनाई दे रही है। पीड़िता का परिवार इंसाफ़ की गुहार लगा रहा है तो वहीं महिलाओं की अस्मत से खिलवाड करने वाले दरिंदों के ख़िलाफ़ संसद में भी आज आवाज़ बुलंद हुई। संसद के दोनों सदनों में आज कांग्रेस की दो महिला सांसदों ने इस मुद्दे को पुरज़ोर तरीके से उठाया।

रोहतक में 13 जुलाई को दलित छात्रा के साथ गैंगरेप हुआ था। उसका इलाज अब भी रोहतक के पीजीआई में चल रहा है, लेकिन 6 दिन बाद भी मामले के सभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त में नहीं आए हैं। पांच में 3 आरोपी ही पुलिस के हत्थे चढ़े हैं।

कांग्रेस का वार: लोकसभा में कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन ने ये मामला उठाया तो राज्यसभा में कांग्रेस सांसद रजनी पाटिल ने इस मुद्दे को उठाया। दोनों सांसदों ने महिला सुरक्षा को लेकर चिंता ज़ाहिर की। इस मामले को लेकर कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। दीपेंद्र हुड्डा ने कहा है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच सुनिश्चित किए जाने की ज़रुरत है। साथ ही उन्होंने मांग की है कि राज्य सरकार को कानून व्यवस्था पर श्‍वेत पत्र लाना चाहिए।

बीजेपी का क्या है कहना: रोहतक गैंगरेप को लेकर हरियाणा सरकार पर चौतरफा हमले हो रहे हैं। इस मामले को लेकर बीजेपी और राज्य सरकार के मंत्री निष्पक्ष जांच और दोषियों पर सख़्त कार्रवाई का भरोसा दे रहे हैं। हरियाणा सरकार में मंत्री अनिज विज ने कहा है कि जल्द ही बाकी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

पुलिस का कहना: रोहतक गैंगरेप का ये मामला अब तूल पकड़ चुका है, लिहाज़ा पुलिस भी फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। पुलिसा कहना है कि 3 आरोपियों से पूछताछ जारी है और बाकी दो को भी जल्द पकड़ लिया जाएगा। पुलिस का कहना है कि 2 आरोपियों ने खुद की बेगुनहाई साबित करने के लिए कुछ सीसीटीवी फुटेज दिए हैं, जिनकी जांच हो रही है।

पीड़ित परिवार लगा रहा है इंसाफ की गुहार... पीड़िता के भाई ने बताया कि तीन साल पहले भिवानी में पांच लड़कों ने उसकी बहन के साथ गैंगरेप किया था। आरोपियों ने कई बार मुकदमे में समझौते का दबाव बनाया और 50 लाख रुपए की पेशकश तक की। समझौते से इनकार करने पर छात्रा का पहले जैसा हाल करने की धमकी दी गई थी।

आरोपी ने जारी किया सीसीटीवी: गैंगरेप मामले में पांच आरोपियों में से एक ने खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए अपना सीसीटीवी फुटेज जारी किया है। इसमें उसने खुद की लोकेशन रोहतक की बजाए भिवानी बताई है। पुलिस इस सीसीटीवी फुटेज की जांच कर रही है।