''देश की सुरक्षा के लिए रोहिंग्या मुसलमानों को निकालना जरूरी''

नई दिल्ली (14 सितंबर): रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर सुप्रीम कोर्ट दिए हलफनामे में केंद्र सरकार ने देश की सुरक्षा के लिए उन्हें देश से बाहर भेजना जरूरी बताया। सरकार ने कहा है कि रोहिंग्याओं के आतंकी समूहों से संबंध हो सकते हैं और हो सकता है कि इन लोगों को आईएसआईएस द्वारा इस्तेमाल किया जाए।

केंद्र सरकार ने कहा कि उन लोगों को वापस भेजा जाना ही देश के हित में है। साथ ही कोर्ट से इस मामले में दखल न देने की अपील की है। अपने हलफनामे में केंद्र सरकार ने कहा कि खुफिया एजेंसियों के पास इस बात की जानकारी है कि रोहिंग्या समुदाय के कुछ लोगों के आतंकी समूहों से संबंध हैं। सरकार ने कहा कि ये समूह जम्मू, दिल्ली, हैदराबाद और मेवात में सक्रिय हैं।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट दो रोहिंग्या प्रवासियों की याचिका पर सुनवाई करने के लिए तैयार हो गया है। याचिका करने वालों का कहना है कि वे म्यांमार में उत्पीड़न का सामना कर रहे थे और उन्हें वापस भेजे जाने का फैसला अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन है। सर्वोच्च न्यायालय इस मामले पर सोमवार को सुनवाई करेगा।