हथियारों के संदिग्ध डीलर संजय भंडारी के साथ जुड़ा रॉबर्ट वाड्रा का नाम

शिवांग माथुर, नई दिल्ली (1 जून): कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा फिर सुर्खियों में हैं। उनका नाम अब हथियारों के संदिग्ध डीलर संजय भंडारी के साथ जोड़ा जा रहा है। इस मामले में बीजेपी नेता सिद्धार्थ नाथ सिंह का भी नाम सामने आ रहा है। अब कांग्रेस और बीजेपी एक-दूसरे पर कीचड़ उछालने में लगे हैं। लंदन में जिस प्रॉपटी का जिक्र कथित ईमेल में किया जा रहा है, वो ब्रिटेन के लैंड रजिस्ट्री डिपार्टमेंट के दस्तावेजों के मुताबिक 2005 में आखिरी बार बिकी। 

आर्म्स डीलर संजय भंडारी के 18 ठिकानों पर जब आयकर विभाग के छापे पड़े। तो शायद ही किसी ने सोचा हो कि राजनीति में इतना बड़ा तूफान खड़ा होगा? दावा किया जा रहा है कि जांच एजेंसियों को संजय भंडारी के कम्यूटर से रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहायक मनोज अरोड़ा के बीच ईमेल पर हुई बातचीत का पता चला है। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक एक ईमेल भेजा गया था जिसमें लंदन की एक प्रॉपर्टी के बारे में बातचीत की गई थी। रॉबर्ट वाड्रा और उनके सहयोगी ने लंदन स्थित घर के बारे में ई-मेल भेजे थे। जिसमें पेमेंट और घर के रेनोवेशन जैसी बातों का जिक्र है। ई मेल्स के हवाले से ये भी कहा जा रहा है कि जिस घर को लेकर विवाद हो रहा है, वो अक्टूबर 2009 में 19 करोड़ रुपए में खरीदा गया और जून 2010 में बेच दिया गया था ।

लेकिन एक दूसरी रिपोर्ट कहती है कि ब्रिटेन के लैंड रजिस्ट्री डिपार्टमेंट के दस्तावेजों के मुताबिक ये संपत्ति आखिरी बार 2005 में बिकी थी और रॉबर्ट वाड्रा का इस संपत्ति से कोई लेना देना नहीं है। लैंड रजिस्ट्री डिपार्टमेंट के मुताबिक इस संपत्ति के मालिक लंदन के ही रहने वाले Harold Sacks और Shirley Sacks हैं।

इस बीच आर्म्स डीलर संजय भंडारी से बीजेपी के सीनियर नेता सिद्धार्थ नाथ सिंह के रिश्तों ने बीजेपी के खेमें में भी खलबली मचा दी है। दावा है कि भंडारी के फोन कॉल डेटा रिकॉर्ड के मुताबिक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कुछ ही दिनों में उसे 450 बार कॉल किया। सफाई देने खुद सिद्धार्थ नाथ सिंह आए और कह दिया भंडारी से कोई लेन-देन नहीं।

अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि संजय भंडारी और सिद्धार्थ नाथ सिंह के बीच किस तरह की बातचीत हुई। कांग्रेस को भी बीजेपी पर हमले का मौका मिल गया। इस सबके बीच इनकम टैक्स या एनफोर्समेंट डिपार्टमेंट की तरफ से अभी तक कोई अधिकारिक बयान नहीं आया है।