शादियों में चोरी करने वाली गैंग का पुलिस ने किया पर्दाफाश

नई दिल्ली(21 फरवरी):दिल्ली पुलिस ने शादियों में चोरी करने वाली गैंग का पर्दाफाश किया है।  

ये गैंग दिल्ली-एनसीआर के पांच सितारा होटलों, बैंक्विट हॉल एवं फार्म हाउसों में आयोजित शादियों में चोरी करता था। पुलिस ने तीन महिलाओं को एक आटो चालक सहित गिरफ्तार किया है। यह गिरोह 100 से अधिक शादियों में अब तक चोरी कर चुका है। इनके पास से 32 हजार रुपये नकद, दो पर्स एवं शादी में पहनकर जाने वाले नए कपड़े बरामद किए हैं।

- संयुक्त आयुक्त रवीन्द्र यादव के अनुसार बीते कुछ माह में पांच सितारा होटलों, बैंक्विट हॉल, फार्म हाउस आदि जगहों पर आयोजित शादी समारोह में चोरी की कई घटनाएं हुई थीं। इनमें से कई वारदातों में पुलिस को सीसीटीवी फुटेज या समारोह के कैमरे की रिकार्डिंग में संदिग्धों के चेहरे दिखे।

- इसे ध्यान में रखते हुए अपराध शाखा के इंस्पेक्टर नीरज चौधरी और एसआई विशाल की टीम ने छानबीन शुरु की। पुलिस टीम ने सबसे पहले इन जगहों से मिले फुटेज को खंगाला।

- बीते 20 फरवरी को एक गुप्त सूचना पर पुलिस टीम ने सतीश यादव, रानो, वर्षा और मनीषा को प्रताप नगर मेट्रो स्टेशन के पास से गिरफ्तार कर लिया।

- तीनों महिलाएं मध्य प्रदेश के राजगढ़ की रहने वाली हैं। महिलाओं ने पुलिस को बताया कि वह राजगढ़ से शादी के मौके पर वारदात करने दिल्ली आते हैं। वह यहां एक से दो माह के लिए किराये पर मकान लेकर ठहरते हैं। रात के समय वह आटो में सवार होकर वारदात के लिए निकलती थीं।

- रानो के खिलाफ पहले भी हौजखास में एक मामला दर्ज है। वहीं वर्षा के खिलाफ हौजखास, बाड़ा हिन्दू राव, उत्तम नगर, महरौली और राजेन्द्र नगर में मामले दर्ज हैं। वहीं वर्षा के खिलाफ हौजखास, उत्तम नगर और बारखंभा रोड थाने में मामले दर्ज हैं।

- आरोपी महिलाओं ने पुलिस को बताया कि वह अच्छे कपड़े पहनकर शादी समारोह में दाखिल होते थे ताकि उन पर कोई शक न करे। समारोह में वह सीसीटीवी कैमरे, फोटोग्राफर और वीडियोग्राफर से बचने का प्रयास करते थे। वह काफी समय समारोह में टहलकर वहां मौजूद लोगों से घुलने-मिलने का प्रयास करते थे। फिर मौका मिलते ही वह नकदी एवं गहने का बैग लेकर रफुचक्कर हो जाती थीं।

- गिरफ्तार किए गए आरोपी सतीश ने पुलिस को बताया कि इस गिरोह ने उसका आटो किराये पर लिया हुआ था। वह उसे एक रात के दो हजार रुपये देते थे। बीते एक माह से वह उनके साथ ही काम कर रहा था। वह आटो में शादी समारोह स्थल के बाहर खड़ा रहता था। उनके बाहर आते ही वह उन्हें बिठाकर निकल जाता था।