बुलंदशहर गैंगरेप: नींद से जागी अखिलेश सरकार, 15 लोग हिरासत में

नई दिल्ली(31 जुलाई):  यूपी के बुलंदशहर से एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई हैं। पुलिस का इकबाल खत्म होने से अपराधियों का अड्डा बने राष्ट्रीय राजमार्ग पर परिवार को पहले बंधक बनाया। फिर कार से खींचकर मां-बेटी से सामूहिक दुष्कर्म किया गया। इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया गया है।

- आधा दर्जन बदमाशों को पुलिस ने हिरासत में लिया,पीड़ितों से कराई जा रही शिनाख्त

- पूरे प्रदेश को शर्मसार करने वाली वारदात बुलंदशहर जिला मुख्यालय से महज दो किमी दूर एनएच-91 (गाजियाबाद-अलीगढ़) पर शुक्रवार रात डेढ़ बजे के करीब हुई। बदमाश इस कदर बेखौफ थे कि परिवार को दो घंटे बंधक बनाकर रखा और पुलिस इस कदर निष्क्रिय कि तीन घंटे तक इस जघन्य वारदात की उसे भनक तक नहीं लगी। और जब लगी तो शनिवार सुबह से ही सारी ताकत मामले को दबाने में लगाई गई। मामला मीडिया तक पहुंचा तो अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर इंस्पेक्टर को लाइन हाजिर कर खानापूरी की गई है। - नोएडा में रहने वाला दो भाइयों का पीडि़त परिवार मूल रूप से शाहजहांपुर का है और टैक्सी चलाने का काम करता है। शुक्रवार रात करीब 12 बजे दंपति अपनी 14 साल की बेटी, भाई-भाभी और भतीजे के साथ दादा की तेरहवीं के लिए नोएडा से शाहजहांपुर के लिए निकला। करीब डेढ़ बजे बुलंदशहर के देहात कोतवाली के गांव दोस्तपुर के फ्लाईओवर के पास किसी ने कार के सामने कुछ फेंका लेकिन जोर की आवाज आने पर भी चालक ने कार नहीं रोकी। करीब 200 मीटर आगे जाने पर फिर वैसी ही आवाज आई तो चालक ने गाड़ी रोक दी। इसी दौरान पीछे से आकर रुकी कार से उतरे छह-सात बदमाश पूरे परिवार को गन प्वाइंट पर लेकर कार को फ्लाईओवर के नीचे ले गये। तीनों पुरुषों को कार से उतारकर बंधक बना लिया। - दोनों महिलाओं और किशोरी को कार सहित बदमाश हाइवे के नीचे संपर्क मार्ग पर ले गए और मां-बेटी से सामूहिक दुष्कर्म किया। पूरा परिवार दो घंटे बंधक रहा। तड़के करीब साढ़े तीन बजे हैवान 12 हजार रुपये और जेवर भी लूटकर ले गए।

- पीडि़त परिवार की सूचना पर नोएडा के परिचित ने कंट्रोल रूम को सूचना दी तब करीब पौने पांच बजे कोतवाली देहात पुलिस मौके पर पहुंची। मेडिकल कराकर परिवार को रवाना कर दिया। मेरठ रेंज की डीआइजी लक्ष्मी ङ्क्षसह ने शनिवार सुबह घटनास्थल का जायजा लेने के बाद अफसरों को जमकर फटकार लगाई। इसके बाद एसएसपी वैभव कृष्ण ने देहात कोतवाली के इंस्पेक्टर रामसेन को निलंबित कर दिया। -मेरठ आइजी सुजीत पांडेय ने बताया कि घटनास्थल के पास लगे टावरों का बीटीएस उठाया गया है। इसमें छह संदिग्ध मोबाइलों की लोकेशन वहीं की पायी गई है। इन पर तेजी से काम हो रहा है। बदमाशों की तलाश में पुलिस की कई टीमें लगा दी गई हैं। उम्मीद है जल्दी परिणाम मिल जाएगा