बिहार में शराबबंदी कानून को लेकर महागठबंधन दो-फाड़...

पटना (29 जुलाई): बिहार में पूर्ण शराबबंदी को लेकर महागठबंधन दो-फाड़ दिख रहा है। ऐसा महागठबंधन के नेताओं के बयानों ने ही स्पष्ट है। एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पूर्ण शराबबंदी के पक्षधर हैं तथा इसके लिए कड़े कानून की बात कर रहे हैं, वहीं सरकार में शामिल राजद के नता इसके विरोध में मुखर हैं।

खुद लालू प्रसाद ने भी स्पष्ट कहा है कि बिहार में ताड़ी पर प्रतिबंध नहीं रहेगा। दूसरी ओर इस विवाद पर सरकार की स्थिति स्पष्ट करते हुए सूबे के उत्पाद व मद्य निषेध मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने शुक्रवार को फिर दुहराया कि ताड़ी पर प्रतिबंध जरूर लगेगा।

शराबबंदी के कड़े कानून व ताड़ी पर प्रतिबंध को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को समर्थन मिलता नहीं दिख रहा। इसके विरोध में गुरुवार को राजद सुप्रीमो ने कहा कि ताड़ी पीने व बेचने पर प्रतिबंध नहीं रहेगा। कहा कि उनके शासनकाल में ताड़ी की बिक्री को लेकर जो नियम बने थे वे लागू रहेंगे।

पूर्व मुख्यमंत्री व राजद नेत्री राबड़ी देवी ने अपनी प्रतिक्रिया में शराबबदी के नए कड़े कानून पर एतराज जताया है। उन्होंने कहा कि घर में किसी एक के शराब पीने पर सभी के जेल जाने का कानून गलत है। पिछले दिनों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उत्पाद विभाग के अधिकारियों ने साफ किया था कि शराबबंदी के दायरे में ताड़ी भी आती है।