जेठमलानी को राज्यसभा टिकट मिलने पर RJD में विरोध

नई दिल्ली (26 मई): वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी को राज्यसभा का प्रत्याशी बनाए जाने पर बिहार में सत्ताधारी महागठबंधन में शामिल पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अंदर विरोध शुरू हो गया है। 

रिपोर्ट के मुताबिक,  राजद के विधानसभा में 80 विधायक हैं। जबकि महागठबंधन में शामिल जनता दल (युनाइटेड) के 71 व कांग्रेस के 27 विधायक हैं। ऐसे में संख्याबल के हिसाब से सत्ताधारी महागठबधंन में शामिल राजद और जद(यू) के हिस्से में दो-दो सीट जाना तय है। राजद ने बुधवार को राज्यसभा के लिए पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और राम जेठमलानी को उम्मीदवार घोषित किया है।

ऐसे में पार्टी के पूर्व सांसद डॉ एजाज अली ने गुरुवार को कहा, "राज्यसभा की सीटों पर पहला हक यादवों और मुसलमानों का बनता है। लेकिन मुसलमानों का हक काटकर यह जेठमलानी को दिया जा रहा है।" उन्‍होंने कहा, "राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को लगता है कि जैसे अमित शाह को क्लीन चिट मिल गई है। वैसे ही उनको भी चारा घोटाले में क्लीन चिट मिल जाएगी। यही कारण है कि लालू मुसलमानों की कुर्बानी दे रहे हैं।"

इसके साथ ही उन्‍होंने यह भी कहा कि लालू जो सोच रहे हैं, वह अगर नहीं हुआ, तो लालू न इधर के रहेंगे और न ही उधर के। एजाज ने कहा कि यदि जेठमलानी राजद अध्यक्ष को क्लीन चिट दिलवा देते हैं, तो लगेगा कि मुसलमानों और दलितों की कुर्बानी काम आ गई।