लालू को डिस्चार्ज करने पर तेजस्वी ने उठाए सवाल, कहा- एम्स ही बताए ऐसा क्यों किया?

नई दिल्ली ( 30 अप्रैल ): चारा घोटाले में सजा पाए और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को सोमवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने फिट बताकर डिस्चार्ज कर दिया। लालू यादव ने खुद को अभी भी बीमार बताते हुए इसे राजनीतिक प्रतिशोध करार दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि पीएम नरेंद्र मोदी के इशारे पर उन्हें डिस्चार्ज किया गया है। 

इससे पहले लालू ने चिट्ठी लिखकर डिस्चार्ज न करने की गुजारिश की थी, लेकिन एम्स प्रशासन ने उन्हें फिट बताते हुए छुट्टी दे दी। एम्स ने साफ किया कि यादव के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है और उन्हें रांची मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा रहा है। डिस्चार्ज किए जाने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उनसे अस्पताल में मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच कुछ देर तक बातचीत हुई। उधर, लालू को एम्स से डिस्चार्ज करने के फैसले की उनके बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने आलोचना की है।

तेजस्वी ने कहा कि पता नहीं किन कारणों से यह फैसला किया गया है। उन्होंने कहा, 'समझ नहीं आ रहा है कि यह फैसला क्यों किया गया है। कोई भी व्यक्ति बीमार पड़ता है तो उसे बड़े अस्पताल में भेजा जाता है। लालू यादव के स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं है। एम्स के लोग ही बता पाएंगे कि ऐसा क्यों किया गया है। लालू यादव का किडनी 60 फीसदी डैमेज है। इस उम्र में उसकी मॉनिटरिंग की जरूरत पड़ती है। इस फैसले से सवाल खड़े होते हैं।' उन्होंने कहा कि जानकारी मिली है कि लालू को आज ही रांची भेजा जा रहा है।