Exclusive: हरिद्वार से लेकर गढ़मुक्तेश्वर के गंगा जल का रिएलिटी टेस्ट

वरुन सिन्हा, नई दिल्ली (12 जनवरी): अर्धकुम्भ का शुभारंभ हो चुका है। हरिद्वार में लगने वाला है देश भर से लाखों श्रद्धालुओं का मेला। ऐसे में न्यूज़ 24 ने किया है एक रिएलिटी टेस्ट। गोमुख से निकली गंगा के जल की पड़ताल की गई और इस पड़ताल में जो निकलकर आया वो काफ़ी चौंकाने वाला था।

गंगा जल के लिए कहा जाता है कि इसे कितने दिन भी बोतल में बंद करके रख लो, ये कभी ख़राब नहीं होता। इसमें कीड़े नहीं पड़ते। अब बारी थी इस गंगा जल के टेस्ट की तो देखते हैं कि आख़िर कहां का पानी कितना शुद्ध है। गोमुख से निकली गंगा ऋषिकेश तक तो ठीक रही, लेकिन हरिद्वार तक पहुंचते-पहुंचते गंगा का पानी दूषित हो गया था। इतना दूषित कि गंगा का पानी पीने लायक तक नहीं था।

अब बारी थी गढ़मुक्तेश्वर के गंगा को पानी को टेस्ट करने की। हमने डॉ एनके कात्याल से कहा कि वो हरिद्वार के पानी वाले टेस्ट को गढ़मुक्तेश्वर के गंगा जल पर करें, क्योंकि हमें लग रहा था कि अगर हरिद्वार में गंगा जल पीने लायक नहीं है तो गढ़मुक्तेश्वर में तो और भी ख़राब होगा। इस टेस्ट में साफ़ हो गया कि गढ़मुक्तेश्वर का गंगा जल भी पीने लायक नहीं है।

देश की मोदी सरकार ने गंगा के उद्धार के लिए न सिर्फ़ एक मंत्रालय पहले से ही बनाया है। इसके साथ ही गंगा के तटों और उसकी साफ़-सफ़ाई के लिए नमामि गंगे नाम से एक प्रोजेक्ट भी शुरू किया है। वित्त मंत्री ने इसके लिए बजट में 2037 करोड़ रुपए का प्रस्ताव भी रखा है। गंगा के लिए इतना कुछ किया जा रहा है, लेकिन फिर भी हमारी गंगा लगातार दूषित होती जा रही है।

देखिए पूरी रिपोर्ट:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=Z3Q81IWFlDc[/embed]