स्मार्टफोन्स-कम्प्यूटर्स का अंत निकट, आने वाला है AI का ज़माना

 

नई दिल्ली (2 मई) : क्या अब दुनिया में स्मार्टफोन्स की उल्टी गिनती शुरू हो रही है। बीते 13 साल में एप्पल की पहली बार बिक्री घटने की ख़बरों से ये सवाल पूछा जा रहा है। गूगल सीईओ सुंदर पिचई की मानें तो इस डिवाइस की अवधारणा धूमिल होने वाली है। पिचई की भविष्यवाणी के मुताबिक कम्प्यूटर्स की जगह आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस(एआई) वाले असिस्टेंट्स ले लेंगे। पिचई ने ये बातें गूगल के वार्षिक संस्थापक पत्र में कही हैं। इसमें कंपनी के क्लाउड प्लेटफॉर्म और एआई संबंधित योजनाओं पर प्रकाश डाला गया।  

गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट की ओर से हर साल लैरी पेज और सर्जी ब्रिन स्टॉकहोल्डर्स को पत्र लिखते हैं जिसमें उन्हें हालिया घटनाक्रमों से अवगत कराया जाता है। इस साल उन्होंने ये मौका पिचई को देते हुए खुशी जताई। इस मौके पर पेज ने कहा कि वो अल्फाबेट की प्रगति को लेकर बहुत खुश हैं। साथ ही वो गूगल के नए सीईओ सुंदर के प्रदर्शन से भी बहुत खुश हैं।

विशेषज्ञों का अनुमान है कि पिछले छह महीने से वो 'पीक डिवाइस' की स्थिति में पहुंच गए हैं। इसका अर्थ है कि स्मार्टफोन अपने सर्वाधिक उत्कर्ष पर हैं। ये एप्पल की बिक्री में आई गिरावट से भी जाहिर है। एप्पल ने 2016 के पहले 3 महीने में 5 करोड़ 12 लाख आईफोन्स बेचे। साथ 10.5 अरब डॉलर का तिमाही मुनाफा कमाया। पिछले साल की बात की जाए तो इसी अवधि में एप्पल ने 6 करोड़ 10 लाख स्मार्टफोन्स बेचे थे।

पिचई के पत्र में कहा गया है, सिर्फ एक दशक तक पहले कम्प्यूटिंग को बड़े कम्प्यूटरों का पर्याय माना जाता था जो हमारे डेस्क पर रखे जाते थे। लेकिन कुछ ही साल में कम्प्यूटिंग प्रोसेसर्स और सेंसर्स इतने छोटे और सस्ते हो जाएंगे कि सुपरकम्प्यूटर्स को जेब में रखना मुमकिन हो जाएगा।  

पिचई ने कहा कि अगर भविष्य को देखा जाए तो अगला बड़ा कदम होगा कि 'डिवाइस' की धारणा का धूमिल होना। पिचई के मुताबिक कम्प्यूटर चाहे वो किसी भी रूप में हो, खुद ही इंटेलीजेंट असिस्टेंट के तौर पर पूरा दिन आपकी मदद करता दिखेगा। हम 'मोबाइल फर्स्ट'  से अब 'आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस फर्स्ट वर्ल्ड' की ओर बढ़ रहे हैं।    

बता दे कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के लिए रिसर्च के मोर्चे पर अल्फाबेट सबसे आगे हैं। ऐसे सॉफ्टवेयर ट्रेंड किए गए हैं जो छवियों को पहचान सकते हैं, आदमी की तरह बोल सकते हैं और चीनी गेम गो खेल सकते हैं।

मानव बनाम मशीन की बहस गूगल के डीपमाइंड कम्प्यूटर की ओर से ह्यूमन गो चैम्पियन ली सिडोल को मात देने से खत्म हो गई है। पांच मैचों की इस सीरीज़ में डीपमाइंड को 4 में जीत मिली। सिडोल सिर्फ 1 में ही विजयी रह सका। इसका मतलब है कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्रोग्राम ने प्राइज़ मनी के तौर 10 लाख डॉलर जीते।