रियो में एक और मेडल पक्का, आज होगा फैसला

नई दिल्ली(18 अगस्त): रियो ओलंपिक के महिला सिंगल्स बैडमिंटन मुकाबले के सेमीफाइनल में पीवी सिंधू का मुकाबला जापान की वर्ल्ड नंबर छह खिलाड़ी नोजोमी ओकुहारा से होगा। पदक जीतने से सिंधू सिर्फ एक कदम दूर हैं। क्वार्टर फाइनल मुकाबले में सिंधू ने चीन की नंबर दो बैडमिंटन खिलाड़ी वांग यिहान को शिकस्त दी थी। जापानी खिलाड़ी के खिलाफ होगा मुश्किल मुकाबला।

- दुनिया की नंबर दो खिलाड़ी को हराने के बाद सिंधू के हौसले सातवें आसमान पर हैं। वो पूरी तरह से फॉर्म में दिखाई दे रही हैं और कोर्ट पर शानदार स्ट्रोक्स लगा रही हैं। क्वार्टर फाइनल मुकाबले में सिंधू ने वांग के खिलाफ बेहतरीन खेल दिखाया। लेकिन अब उनका मुकाबला दुनिया की नंबर दो जापान की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी नोजोमी ओकुहारा से होना है। जो किसी भी लिहाज से आसान नहीं होगा। दोनों खिलाड़ियों के बीच अबतक तीन मुकाबले हुए हैं। जिसमें सिंधू को सिर्फ एक में ही जीत मिली है.।ऐसे में उन्हें सेमीफाइनल में बेहद दमदार खेल दिखाना होगा।

- रिकॉर्ड पर नजर डाले तो नोजोमी का इस अहम मुकाबले में पलड़ा भारी माना जा रहा है। साल 2016 एशियन टीम चैंपियनशिप में नोजोमी ने सिंधू के खिलाफ 18-21, 21-12, 21-12 से जीत दर्ज की थी. इसके बाद साल 2015 में मलेशिया मास्टर्स में 19-21, 21-13, 21-8 से सिंधू को हराया। हांगकांग ओपन में भी नोजोमी ने भारत की नंबर दो खिलाड़ी को 21-17, 13-12, 21-11 से शिकस्त दी थी। सिंधू सिर्फ एक ही बार एशिया यूथ अंडर 19 चैंपियनशिप में 18-21, 21-17, 22-20 से नोजोमी को हरा पाई हैं। दोनों के बीच यूं तो हमेशा कांटे की टक्कर देखने को मिली है। लेकिन इस बार सिंधू को खेलों के सबसे बड़े स्टेज ओलंपिक में अपनी पिछली हार का बदला लेने का सुनहरा मौका मिला है।

- रियो ओलंपिक में भारत को अबतक एक भी मेडल हासिल नहीं हुआ है। ऐसे में उन पर इस मुकाबले को जीतने का दबाव रहेगा। सिंधू ने क्वार्टर फाइनल में जिस तरह का खेल दिखाया है, उससे ये साफ हो गया है कि उन्हें रोक पाना किसी के लिए भी आसान नहीं होने वाला हैं। रियो ओलंपिक के पहले मुकाबले में सिंधू ने कनाडा की मिशेल ली को सीधे गेमों में 19-21, 21-15, 21-17, फिर प्री-क्वार्टर मुकाबले में चीनी ताइपे की ताइ जू-यिंग को 21-13, 21-14 को हराया। इसके बाद वांग यिहान को 22-20, 21-19 से मात दी।