रियो ओलंपिक में इस भारतीय पहलवान पर होगीं सबकी नज़रें

नई दिल्ली (12 जुलाई): सुशील कुमार के रियो ओलंपिक रेस से बाहर होने के बाद अब सबकी उम्मीदें नरसिंह यादव पर टिकी हैं। भारत के पहलवान नरसिंह यादव से शायद इस बार ओलंपिक में सबसे ज़्यादा उम्मीद है। 2 बार के ओलंपिक मेडल विजेता सुशील कुमार की जगह नरसिंह 74 किलोग्राम वजन में अपनी दावेदारी पेश करेंगे।

नरसिंह ने पिछले साल वर्ल्ड चैंपियनशिप में 74 किलोग्राम में ब्रांज मेडल जीतकर देश को रियो ओलंपिक का कोटा दिलाया था। वहीं सुशील ने 66 किलोग्राम में दो ओलंपिक पदक जीते हैं, लेकिन अब वो 74 किलोग्राम में खेलते हैं। सुशील अपने कंधे की चोट के कारण वर्ल्ड चैंपियनशिप में नहीं खेल पाए थे। इसी वजह से उन्होंने रियो ओलंपिक का कोटा हासिल करने का मौका गंवा दिया था।

पिछले साल ही भारत के पहलवान नरसिंह पंचम यादव ने वर्ल्ड कुश्ती चैंपियनशिप में ब्रांज मेडल अपने नाम किया है। नरसिंह यादव इसके अलावा 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीत चुके हैं और साल 2014 के इंचियोन एशियाई खेलों में 74 किलो भार वर्ग में कांस्य पदक जीत चुके हैं।

5 अगस्त से ब्राजील के रियो में खेलों का महाकुंभ शुरू होने वाला है। भारत की तरफ से 8 पहलवान रियो की तैयारियों में जी-जान से जुटे है। इसमें 5 पुरूष पहलवान है, जबकि 3 महिला पहलवान है। रियो के दंगल करोड़ों फैंस की उम्मीदें नरसिंह पंचम यादव पर टिकी हुई है, ऐसे में नरसिंह के ऊपर मेडल जीतने का दबाव भी होगा।