सिंधू बोलीं- गोल्ड मेडल के लिए लगा दूंगी पूरी जान

नई दिल्ली(19 अगस्त): सेमीफाइनल में जीत के बाद भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू ने कहा कि वह स्वर्ण पदक जीतने के लिए जी जान लगाकर खेलेंगी। विश्व चैम्पियनशिप की दो बार की कांस्य पदक विजेता सिंधू ने 49 मिनट चले सेमीफाइनल में जापान की आल इंग्लैंड चैम्पियन नोजोमी ओकुहारा को 21-19, 21-10 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया है।

-दुनिया की 10वें नंबर की खिलाडी सिंधु अब आज फाइनल में दो बार की विश्व चैम्पियन और शीर्ष वरीय स्पेन की कैरोलिना मारिन से भिडेंगी।

-मैच के बाद सिंधु ने कहा, 'मेरा लक्ष्य स्वर्ण पदक जीतना है और मैं अपनी जान लगा दूंगी। मुझे लगता है कि मैंने हर बार कड़ी मेहनत की है। सभी का लक्ष्य ओलिंपिक में पदक जीतना होता है, एक और मैच बचा है। निश्चित तौर पर मुझे लगता है कि मेरे पास मौका है।' उन्होंने कहा, 'दबाव जैसा कुछ नहीं है। सिर्फ इतना है कि मुझे अपना शत प्रतिशत देना होगा। एक और मैच बचा है। मैं कल के मैच के लिए पूरी तरह से तैयार हूं। यह आसान नहीं होने वाला। वह काफी कड़ी प्रतिद्वंद्वी है। यह ओलिंपिक फाइनल है और वह काफी अच्छा खेल रही है। यह इस पर निर्भर करता है कि कौन अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करता है और फाइनल जीतता है।'

-सिंधू की सफलता का राज उनकी कड़ी मेहनत और प्रतिबद्धता है और इस स्टार खिलाड़ी ने कहा कि वह किसी भी अन्य चैम्पियन की तरह एक बार में एक मैच पर ध्यान दे रही हैं। महिला पहलवान साक्षी मलिक के 58 किग्रा फ्रीस्टाइल में भारत के लिए कांस्य पदक जीतने के 24 घंटे से भी कम समय में सिंधू ने भारत के लिए एक और पदक तय किया। साक्षी को बधाई देते हुए सिंधू ने कहा, 'मैं उससे नहीं मिली। मैंने उसे टीवी पर देखा और मैं निश्चित तौर पर कांस्य पदक के लिए उसे बधाई दूंगी। उसने शानदार खेल दिखाया। यह भारत के लिए शानदार है।'

-सिंधू की जीत के बाद राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि कल स्वर्ण पदक के मैच में कल वह अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगी। गोपीचंद ने सिंधू की सेमीफाइनल में जीत के बाद कहा, 'वह बेहतरीन खेल का प्रदर्शन कर रही है। उसने हर मैच में नये सिरे से शुरुआत की चाहे वह मिशेल के खिलाफ हो या वेंडी के। वह वास्तव में बहुत अच्छा खेल रही है और उसने गजब का प्रदर्शन किया।' उन्होंने कहा, 'आज की जीत बेजोड़ थी। अब उसका सामना कल कैरोलिना मारिन जैसी दमदार खिलाड़ी से है। हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे और देखते हैं कि आगे क्या होता है।'