नोटबंदी के बाद RBI ने जारी किए 9.92 लाख करोड़

नई दिल्ली ( 8 फरवरी ): रिजर्व बैंक ने गुरुवार को बताया कि 27 जनवरी तक 500 और 2,000 रुपये के नए नोट सहित कुल 9.92 लाख करोड़ रुपए के कैश सर्कुलेशन में आ गए थे।

नई मौद्रिक नीति की घोषणा के दौरान आरबीआई के डेप्युटी गवर्नर ने बताया कि 2,000 रुपये और 500 रुपये, दोनों नोटों की नकल करना बहुत ही मुश्किल है। उन्होंने कहा कि एक बार जो नकली नोट पकड़े गए थे, वो नए नोटों की फोटो कॉपी थीं।

नोटबंदी के बाद तय की गई कैश निकासी की सीमा 13 से मार्च पूरी तरह खत्म हो जाएगी। रिजर्व बैंक ने बुधवार को ऐलान किया कि सेविंग्स अकाउंट्स से नकदी निकासी की सीमा दो चरणों में हटा ली जाएगी। पहले चरण के तहत 20 फरवरी से बचत खातों से हर हफ्ते 24,000 रुपये की जगह 50,000 रुपये तक निकाले जाने की छूट होगी। फिर, दूसरे चरण में 13 मार्च को कैश निकासी पर लगी रोक पूरी तरह से हटा ली जाएगी। मौद्रिक नीति की समीक्षा की घोषणा के दौरान रिजर्व बैंक डेप्युटी गवर्नर ने इसकी जानकारी दी।

नई मौद्रिक नीति की घोषणा के दौरान आरबीआई के डेप्युटी गवर्नर ने बताया कि 2,000 रुपये और 500 रुपये, दोनों नोटों की नकल करना बहुत ही मुश्किल है। उन्होंने कहा कि एक बार जो नकली नोट पकड़े गए थे, वो नए नोटों की फोटो कॉपी थीं।

नोटबंदी के बाद तय की गई कैश निकासी की सीमा 13 से मार्च पूरी तरह खत्म हो जाएगी। रिजर्व बैंक ने बुधवार को ऐलान किया कि सेविंग्स अकाउंट्स से नकदी निकासी की सीमा दो चरणों में हटा ली जाएगी। पहले चरण के तहत 20 फरवरी से बचत खातों से हर हफ्ते 24,000 रुपये की जगह 50,000 रुपये तक निकाले जाने की छूट होगी। फिर, दूसरे चरण में 13 मार्च को कैश निकासी पर लगी रोक पूरी तरह से हटा ली जाएगी। मौद्रिक नीति की समीक्षा की घोषणा के दौरान रिजर्व बैंक डेप्युटी गवर्नर ने इसकी जानकारी दी।