बैकों में लेन-देन होगा महंगा, बढ़ सकता है सर्विस चार्ज

नई दिल्ली ( 4 फरवरी ): भारतीय रिजर्व बैंक कैशलैस ट्रांजैक्शंस को देश में बढ़ावा देने के लिए बैंकों को बैंक सर्विस चार्ज तय करने की छूट देने पर विचार कर रहा है। वित्त राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने शुक्रवार को लोकसभा में यह जानकारी दी। यही नहीं केंद्रीय बैंक ने क्रेडिट कार्ड्स के इंटरेस्ट रेट्स को भी नियंत्रण मुक्त कर दिया है। अब तक आरबीआई की ओर से नियमित अंतराल पर जारी किए जाने वाले दिशानिर्देशों के मुताबिक बैंक क्रेडिट कार्ड पर बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मंजूरी से ब्याज दर तय करते रहे हैं।

वित्त राज्य मंत्री ने बताया कि नेशनल बैंक फॉर ऐग्रिकल्चर ऐंड रूरल डिवेलपमेंट (नाबार्ड) ने कारोबारियों को आधार कार्ड आधारित पेमेंट सिस्टम के जरिए पेमेंट पर 0.5 फीसदी इनसेंटिव की छूट को भी मंजूरी दे दी है। इसके अलावा 1 जनवरी से 31 मार्च, 2017 तक पीओएस मशीनों पर 1,000 रुपये तक के डेबिट कार्ड ट्रांजैक्शंस पर मर्चेंट डिस्काउंट रेट 0.25 पर्सेंट तय करने का फैसला लिया गया है। इससे पहले यह रेट 0.5 पर्सेंट था। इसके अलावा 1,000 रुपये से लेकर 2,000 तक के ट्रांजैक्शंस पर एमडीआर फीस 0.5 पर्सेंट रखने का फैसला लिया गया है।