क्या आपके स्मार्ट फोन में भी वायरस है? तो यहां पढ़ें क्लीन करने का आसान तरीका

नई दिल्ली (6 मार्च): आमतौर पर एंड्रॉयड स्मार्टफोन वाइरस की चपेट में नहीं आते। कुछ ऐसे ऐड्स होते हैं, जो आपको गलत जानकारी देते हुए दिखाते हैं कि आपके फोन में वाइरस है और इसे ठीक करने के लिए हमारा ऐप डाउनलोड कर लीजिए। इसके अलावा कई बार फोन में अन्य तरह की गड़बड़ियां भी आ जाती हैं, जिससे वह ठीक से काम नहीं करता। मगर इसका मतलब यह नहीं कि एंड्रॉयड फोन एकदम सेफ होते हैं। इनमें भी वाइरस आ सकते हैं। अगर आपके स्मार्टफोन में भी कोई वाइरस आ गया है तो जानें, कैसे उसे पहचाना जा सकता है। 

वाइरस कैसा भी हो, एंड्रॉयड में वह ऐप्स की मदद से घुसपैठ करता है। आपके फोन या टैब में वाइरस हो तो सबसे पहले ऐप्स चेक करें। गूगल प्ले स्टोर से बाहर का कोई भी ऐप डाउनलोड नहीं करना चाहिए। मेसेज वगैरह से आए किसी लिंक से भी ऐप डाउनलोड न करें। हाल ही में गूगल प्ले स्टोर में भी कुछ खतरनाक ऐप्स की जानकारी मिली है। इसलिए ध्यान दें कि कहीं से भी ऐप डाउनलोड करना हो, पहले उसके बारे में पूरी जानकारी जुटा लें। अगर कोई ऐप खोलने पर फोन हैंग हो रहा हो या अजीब तरीके से व्यवहार कर रहा हो, संभावना है कि वह वाइरस हो। उसे हटाने की कोशिश करें, अगर कोई दिक्कत आए तो समझ जाइए कि यह मैलवेयर है।

अपने स्मार्टफोन की सेटिंग्स में जाएं और सिक्यॉरिटी ऑप्शन में जाकर अननोन सोर्स  को डिसेबल रखें। डिसेबल नहीं है तो डिसेबल कर दें। आप ऐंटीवाइरस ऐप भी इंस्टॉल कर सकते हैं।  

अगर कोई ऐसा वाइरस ऐप आ गया है और अनइंस्टॉल ही नहीं हो रहा तो फैक्टरी रीसेट करें, यह हट जाएगा। मगर इसके साथ ही अन्य डेटा और ऐप्स भी साफ हो जाएंगे। फोन वैसा हो जाएगा, जैसा यह खरीदने पर मिला था।

डेटा गंवाए बिन वाइरस हटाने के लिए अपने फोन या टैबलट को सेफ मोड पर डालें। इस मोड में थर्ड पार्टी ऐप्स और वाइरस रन नहीं कर पाते। सेफ मोड में फोन कैसे डालना है, इसके लिए 

गूगल पर हाऊ टू पुट (यहां अपने फोन के मॉडल का नाम लिखें) इन टू सेफ मोड सर्च करें और इंस्ट्रक्शन फॉलो करें। सेफ मोड में जाने के बाद आपको स्क्रीन के लेफ्ट बॉटम पर सेफ मोड लिखा मिलेगा। अब सेटिंग्स में जाकर ऐप्स पर जाएं और डाउनलोड टैब खोलें। यहां चेक करें कि कौन से ऐप को आपने इंस्टॉल नहीं किया है। या फिर जो ऐप हट नहीं रहा हो, उसे तलाशें। उस ऐप पर टैप करें और अनइन्सटॉल कर दें। आमतौर पर यहीं से ज्यादातर वाइरस हट जाते हैं। मगर कई बार ऐसे ऐप्स का अनइन्सटॉल बटन ग्रे नजर आता हो। ऐसा तब होता है, जब 

वाइरस ने खुद को ऐडमिन स्टेटस दे दिया हो।

इस स्थिति से निपटने का भी एक तरीका है। सेफ मोड में जिस ऐप का अनइंस्टॉल बटन न दिख रहा हो, उसे हटाने के लिए ऐप्स को एग्जिट करें और सेटिंग्स में सिक्योरिटी फिर  डिवाइस एडमिनिस्ट्रेटर  में जाएं। यहां पर उन ऐप्स की लिस्ट मिल जाएगी, जिन्हें ऐडमिनिस्ट्रेटर स्टेटस मिला है। जिन ऐप्स को हटाना है, उनका यह स्टेटस टैप करके हटा दें। इसके बाद आप वापस ऐप्स मेन्यु में जाएं और अनइन्सटॉल  पर टैप करके उस संदिग्ध ऐप को हटा दें। अब सेफ मोड से बाहर जाने के लिए फोन को फिर से रिस्टार्ट कर दें।