मिसाइल से लेकर SUBMARINE तक बनाएंगे अंबानी...

नई दिल्ली (30 मई): अनिल अंबानी का रिलायंस ग्रुप अब डिफेंस के उत्पाद भी बनाएगा। अनिल अंबानी अपनी रिलायंस ग्रुप को बड़ी डिफेंस कंपनी बनाने चाहते हैं। अंबानी की कंपनी 840 बिलियन रुपए सरकारी कॉन्ट्रेक्ट पाने के लिए लगा चुकी है, हालांकि उसे अभी तक सफलता नहीं मिली है।

रिलायंस कंपनी 2005 में दोनों भाइयों मुकेश और अनिल में लड़ाई के बाद बंट गई थी। अनिल अंबानी ने डिफेंस सेक्टर में कदम पिछले साल रखा। अंबानी ने पिछले साल गुजरात की वॉरशिप बनाने वाली कंपनी पिपव शिपयार्ड में 20 बिलियन रुपए के स्टेक खरीदे। उसके बाद रिलायंस डिफेंस एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड बनाया। रिलायंस एरोस्पेस और शिपयार्ड बनाने के लिए देश में कई जगह जमीन भी खरीद चुका है।

रिलायंस ने करीब आधा दर्जन अग्रीमेंट्स कई विदेशी कंपनियों के साथ साइन किए। रिलायंस ने इस्राइल के राफेल डिफेंस सिस्टम के साथ भी भारत सरकार के कॉट्रेक्टस के लिए अग्रीमेंट किया। इस्राइल के एक डिफेंस सूत्र के अनुसार अगर राफेल को यह टेंडर मिल जाता है तो रिलायंस मिसाइल और दूसरे रक्षा उत्पाद का निर्माण भारत में करेगी।