मोदी सरकार का दिवाली से पहले बड़ा तोहफा, अब इतना कम होगा आपका मोबाइल बिल

नई दिल्ली (20 सितंबर): मोबाइल फोन उपभोक्ताओं के लिए अच्छी खबर है। अब फोन कॉल की दरें कम हो जायेंगी। वज़ह यह है कि दूरसंचार नियामक ट्राई ने मंगलवार को इंटरकनेक्शन यूसेज चार्जेस (आईयूसी) को मौजूदा 14 पैसे से घटाकर 6 पैसे प्रति मिनट कर दिया। नई दरें 1 अक्टूबर, 2017 से लागू होंगी और 1 जनवरी, 2020 से यह शुल्क पूरी तरह खत्म हो जाएगा। दरअसल, आईयूसी को कम करने की मांग रिलायंस जियो ने की थी। इस पर बाकी सेल ऑपरेटर्स को आपत्ति थी। लेकिन ट्राई ने रिलायंस की बात मानी और आईयूसी को कम कर दिया। 

आईयूसी वो शुल्क होता है जो कोई दूरसंचार कम्पनी अपने नेटवर्क से दूसरी कम्पनी के नेटवर्क पर कॉल के लिए दूसरी कम्पनी को देती है। ट्राई ने कहा कि 6 पैसे प्रति मिनट का नया कॉल टर्मिनेशन शुल्क 1 अक्टूबर, 2017 से प्रभावी होगा और 1 जनवरी, 2020 से इसे पूरी तरह से समाप्त कर दिया जाएगा।

आईयूसी को लेकर हाल ही में खासा विवाद रहा है और इसमें कटौती का ट्राई का आज का फैसला भारती एयरटेल जैसी प्रमुख दूरसंचार कम्पनियों के रुख के विपरीत हैं जोकि इसमें बढ़ोतरी की मांग कर रही थीं।

इसमें दूसरी बड़ी बात है कि नियामक ने दूरसंचार क्षेत्र में व्यापार सुगमता को बढ़ावा देने के लिए एक परामर्श पत्र जारी किया है। इस परिपत्र में समयबद्ध मंजूरियों, शुल्कों को युक्ति संगत बनाए जाने और श्रेणीबद्ध जुर्माने का प्रस्ताव है।