भारत की तरक्की से चिढ़ा पाकिस्तान, अज़ीज़ ने कहा अभी संबंध सुधरने की गुंजाइश नहीं

नई दिल्ली (28 जून): एनएसजी में भारत को एंट्री न मिलने से खुश हो रहे पाकिस्तान की हवा एक दिन में ही निकल गयी। भारत को एमटीसीआर की मेंबरशिप मिल जाने से खिसियाये पाकिस्तान ने फिर से स्यापा शुरु कर दिया है। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज़ अज़ीज़ ने कहा भारत शांति वार्ता के लिए अपनी शर्तें थोप रहा है।

सरताज अजीज ने आरोप लगाया कि भारत सिर्फ आतंक पर बात-चीत चाहता है जबकि हम सभी आठ मुद्दों पर एक साथ बात करना चाहते हैं। भारत की प्रगति से चिढ़े सरताज़ अज़ीज़ ने तो यहां तक कह दिया कि भारत से फिल्हाल संबंधों में सुधारआने की कोई संभावना नहीं है। इसी तरह उन्होंने अफगानिस्तान के साथ शांति प्रक्रिया को फिल्हाल नामुमकिन बताया है। हालांकि अधिकांश पाकिस्तानी मीडिया भी कहता है कि भारत और अफगानिस्तान के साथ पाकिस्तान के खराब रिश्तों के कारण दुनिया भर में उसकी किरकिरी हो रही है।

दरअसल, सरताज अजीज का यह बयान पूर्व विदेश मंत्री हिना रब्बानी ख़ार के उस इंटरव्यू के बाद आया जिसमें उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान को भारत और अफगानिस्तान के साथ अपने संबंधों को सुधारना चाहिए। आतंकियों पर लगाम लगानी चाहिए और परस्पर भरोसा बढ़ाने वाली कार्रवाई के बाद बात-चीत का महौल बनाना चाहिए। हिना रब्बानी ने तो यहां तक कहा कि नरेंद्र मोदी ने बिन बुलाये लाहौर आकर यह साबित कर दिय़ा कि वो हर तरह से वार्ता के लिए तैयार है। अब पाकिस्तान को कदम उठाने की जरूरत है।