Blog single photo

क्षेत्रीय राजनीतिक पार्टियों की बढ़ी कमाई, डीएमके को मिला सबसे ज्यादा चंदा

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले क्षेत्रीय पार्टियों की कमाई में जमकर बढ़ी है। क्षेत्रीय दलों से 2017-18 के दौरान आए चंदे के जो आंकड़े दिए हैं, उसमें बीते साल के मुकाबले उनकी आय में बढोतरी हुई है।

                                                      image source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 15 नवंबर ): 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले क्षेत्रीय पार्टियों की कमाई में जमकर बढ़ी है। क्षेत्रीय दलों से 2017-18 के दौरान आए चंदे के जो आंकड़े दिए हैं, उसमें बीते साल के मुकाबले उनकी आय में बढोतरी हुई है।तमिलनाडु में प्रभाव रखने वाली डीएमके सबसे ज्यादा चंदा पाने वाली पार्टी है। 2017-18 के दौरान 35 करोड़ रुपए की आय डीएमके को हुई है, जो दूसरी किसी भी क्षेत्रीय पार्टी से ज्यादा है। इसके बाद तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को 27.7 करोड़ का चंदा मिला है।नवीन पटनायक के नेतृत्व वाली पार्टी बीजू जनता दल को 14 करोड़ रुपए की आय हुई है। तेलुगू देशम पार्टी को 19 करोड़, वाएसआर कांग्रेस को 14 करोड़, जदयू को 12 करोड़, जनता दल (सेक्यूलर) को आठ करोड़, आम आदमी पार्टी को आठ करोड़, शिरोमणि अकाली दल को 3.9 करोड़ और राष्ट्रीय लोकदल को दो करोड़ का चंदा 2017-18 में मिला है। इसके अलावा इनेलो, एनपीपी, एसडीएफ, पीएमके को भी एक करोड़ से ज्यादा का चंदा मिला है।2016-17 में क्षेत्रीय दलों में सबसे ज्यादा चंदा पाने वाली समाजवादी पार्टी ने अभी अपनी फंडिंग का खुलासा नहीं किया है। इसके अलावा अन्नाद्रमुक और एआईएमआईएम ने अपनी आय अभी घोषित नहीं की है। आय वित्त वर्ष 2016-17 में समाजवादी पार्टी 82.76 करोड़ रुपए के साथ सबसे ऊपर रही थी। सपा के बाद तेलुगू देशम पार्टी और अन्नाद्रमुक का नंबर था। तेलुगु देशम पार्टी यानी तेदेपा 72.92 करोड़ और अन्नाद्रमुक को 48.88 करोड़ रुपए बीते साल मिले थे।

Tags :

NEXT STORY
Top