जर्मनी में रिफ्यूजी सीरियन लड़की बनी 'शराब की रानी'

नई दिल्ली (8 अगस्त): एक सीरियाई शरणार्थी को जर्मनी के सबसे बेहतर शराब बनाने वाले इलाकों में से 'रानी' के ताज से नवाजा गया है। यह पहली बार है, जब किसी शरणार्थी को यह पुरस्कार मिला। एक रिपोर्ट के मुताबिक करीब तीन साल पहले नीनोरटा  नाम की 26 साल की छात्रा सीरिया से भागकर जर्मनी आई थी। उसने यहां आकर शराब बनाने की ट्रैनिंग ली और जल्दी ही सबसे बेहतरीन शराब बनाने में माहरत हासिल कर ली।

उसकी बनायी शराब से प्रभावित होकर ट्रीयर शहर में उसे डयूश वेले ने शराब की रानी के खिताब से नवाजा गया। नीनोरटा पहली शरणार्थी है जिसे यह खिताब मिला है। जर्मनी में शराब की रानी खिताब देने की परंपरा साल 1930 से है। जर्मनी में हर साल सितंबर में शराब के 13 इलाकों से जर्मन शराब की रानी स्पर्धा होती है।