'अप्रैल से जून के बीच भारत में होगी नौकरियों की बारिश'

नई दिल्ली (10 फरवरी): नोटबंदी से लगे झटके के बाद भारत का जॉब मार्केट एक बार फिर ग्रोथ के मूड में है। टीमलीज सर्विसेज, एबीसी कंसल्टेंट्स, क्वेस कॉर्प, एंटल इंटरनेशनल, पीपलस्ट्रॉन्ग, द हेडहंटर्स समेत कई रिक्रूटमेंट और स्टाफिंग फर्मों का कहना है कि उन कंपनियों का भरोसा लौट रहा है, जिन्होंने हायरिंग में कटौती की थी या इसे टाल दिया था। बैंकिंग, कन्जयूमर, इंफ्रास्ट्रक्चर, रिटेल और इंजिनियरिंग जैसे सेक्टरों में जॉब की मांग देखने को मिल रही है। कंपनियों के मुताबिक, नए फाइनैंशल इयर के पहले क्वॉर्टर में हायरिंग में 40-50 फीसदी की बढ़ोतरी की उम्मीद है, जबकि नोटबंदी के बाद इसमें भारी गिरावट आ गई थी।

रिक्रूटमेंट फर्म एंटल इंटरनैशनल के मैनेजिंग डायरेक्टर जोसेफ डी ने बताया, 'हमसे बात करने वाली 90 फीसदी कंपनियां हायरिंग को लेकर आशावान हैं।' उन्होंने कहा कि नवंबर-दिसंबर में भर्तियों के मामले में माहौल सूखा पड़ने के बाद जनवरी के शुरू में हालात बेहतर होने शुरू हुए हैं। मार्केट में कैश की धीरे-धीरे वापसी हो रही है और लोगों का खर्च बढ़ रहा है। उन्होंने कहा, 'अप्रैल-जून क्वॉर्टर में हमारी वापसी होगी।एग्रीकल्चर से जुड़ी इंडस्ट्रीज की अगुवाई में हायरिंग में 50 फीसदी तक बढ़ोतरी होगी।'