मुगलसराय स्टेशन का नाम दीन दयाल उपाध्याय रखने के फैसले पर संसद में हंगामा


नई दिल्ली ( 4 अगस्त ):
मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर दीन दयाल उपाध्याय के नाम पर करने के प्रस्ताव पर संसद में शुक्रवार को खूब हंगामा हुआ। राज्यसभा में समाजवादी पार्टी ने आज ये मुद्दा उठाया और सरकार पर जगहों की पहचान बदलने को लेकर सवाल उठाए।

इस मुद्दे पर राज्यसभा में सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा कि सरकार सारे पुराने शहरों और जगहों के नाम बदल रही है। इस पर चर्चा होनी चाहिए। वहीं सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री नकवी ने जवाब देते हुए कहा कि विपक्ष को मुगलों के नाम पर नहीं, दयाल जी के नाम पर आपत्ति है। विपक्ष ने सवाल खड़ा किया कि जिसका कोई योगदान नहीं उसके नाम पर जगहों के नाम क्यों रखे जा रहे हैं?

बता दें कि मुगलसराय का नाम बदलने के प्रस्ताव पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ अपनी हरी झंडी दे चुके हैं। योगी सरकार के इस फैसले को गृह मंत्रालय ने भी अपनी हरी झंडी दे दी है। अब रेल मंत्रालय को इस पर फैसला करना है।

यूपी सरकार ने इसी साल जून में स्टेशन का नाम बदलने के प्रस्ताव को हरी झंडी दी थी। जुलाई में गृह मंत्रालय को यूपी सरकार से एनओसी मिल गई थी। सरकारी नियमों के मुताबिक, किसी स्टेशन, गांव, शहर का नाम बदलने के लिए राज्य सरकार को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एनओसी लेने की जरुरत होती है।