अब बनेगी असली संतो की आईडी, वेबसाइट पर डिटेल भी होगी अपलोड

वाराणसी (23 नवंबर): देश में तथाकथित शंकराचार्यो की भीड़ को देखते हुए काशी विद्वत परिषद असली व नकली संतों की सूची जारी करने जा रही है। इसके लिए परिषद ने विवेचन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। काशी विद्वत परिषद असली व नकली संतों की सूची जारी करने जा रही है। इसके लिए परिषद ने विवेचन की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।

इसके बाद असली संतो को आईडी बनाए जाएंगे और साथ ही वेबसाइट पर सनातन धर्म के सभी सम्प्रदायों के संत-महंतों का पूरा विवरण प्रदर्शित किया जाएगा। शास्त्रीय नियमों का हवाला देते हुए अवैध तरीके से संत समेत अन्य उपाधियां न लिखने की चेतावनी भी जारी की जाएगी। हाल के वर्षों में कई तथाकथित संतों के भ्रष्ट आचरण में फंसने और जेल जाने से व्यथित परिषद ने यह निर्णय लिया है। देश के सभी वैष्णव व शैव अखाड़ों को पत्र लिख कर संबद्ध संतों के नाम-स्थान व संपर्क नंबर मांगे गए हैं। इसे प्रदर्शित करने को परिषद की ओर से वेबसाइट भी बनाई जा रही है। यह 8 दिसंबर को लांच की जाएगी। परिषद के मंत्री राम नारायण द्विवेदी ने कहा कि आदि शंकराचार्य द्वारा देश में सिर्फ चार पीठों की स्थापना के बाद भी देश भर में तथाकथित शंकराचार्यो की भीड़ को देखते हुए भी यह कदम उठाया जा रहा है। इसमें कथावाचकों द्वारा खुद को संत लिखने पर भी लगाम की कवायद की जा रही है.