1 जनवरी 2018 से आधार से लिंक करा सकेंगे मोबाइल नंबर, DoT ने जारी किए निर्देश

Related image

नई दिल्ली (2 दिसंबर): टेलिकॉम डिपार्टमेंट (डॉट) ने फॉरेन नेशनल्स, एनआरआई, सीनियर सिटीजंस, फिजिकली चैलेंज्ड लोगों और आधार रजिस्टर्ड सब्सक्राइबर्स के लिए मोबाइल नंबर आधार से लिंक करने के लिए विस्तृत प्रक्रिया जारी की। अब1 जनवरी, 2018 से मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से लिंक कराया जा सकेगा।  डॉट ने इस संबंध में टेलिकॉम कंपनियों को भी सूचना दे दी है।  

इस प्रक्रिया में ऐसे फॉरेन नेशनल्स के साथ ही एनआरआई सब्सक्राइबर भी शामिल हैं, जिनके पास या तो आधार नहीं है या उनका मोबाइल नंबर यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) रजिस्टर्ड नहीं है।

सीनियर सिटीजंस के लिए भी बताया प्रोसिजर डॉट ने 70 साल से ज्यादा के सीनियर सिटीजंस के लिए री-वैरिफिकेशन प्रोसीजर दिया, जो बायोमीट्रिक अथेंटिकेशन देने में अक्षम हैं या फिजिकली चैलेंज्ड हैं। डॉट ने अपने आदेश में कहा कि लाइसेंसी को सुनिश्चित करना चाहिए कि सब्सक्राइबर्स को '1 जनवरी, 2018 से इन वैकल्पिक तरीकों से अपने मोबाइल कनेक्शन को री-वैरिफाई कराना चाहिए।'

डॉट ने कहा कि आधार नहीं रखने वाले फॉरेन नेशनल्स अपने मोबाइल ऑपरेटर के के रिटेल आउटलेट्स पर जाकर और अपने पासपोर्ट की डिटेल्स जमा करके ऐसा कर सकेंगे। डॉट ने ऑपरेटर्स को ऐसे टेलिकॉम सब्सक्राइबर्स के लिए भी आईवीआरएस-बेस्ड वन टाइम पासवर्ड (ओटीपी) अथेंटिकेशन के प्रोसिजर्स के बारे में भी बताया है, जिनके मोबाइल नंबर आधार के साथ रजिस्टर्ड हैं, वे आधार से लिंक कराने के वास्ते ओटीपी जनरेट करने के लिए 14546 को इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पॉन्स सिस्टम (आईवीआरएस) हेल्पलाइन के तौर पर इस्तेमाल कर सकेंगे।