अभी तक जमा हुए 11.55 लाख करोड़, सरकार ने छापे 4 लाख करोड़ नए नोट

नई दिल्ली (7 दिसंबर): आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा नीति के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए गवर्नर उर्जित पटेली ने देशवासियों को एक झटका दिया। नोटबंदी के बाद ब्याज दरों में कटौती की आस में बैठे लोगों को आरबीआई की तरफ से बुरी खबर ही सुनने को मिली।

हालांकि इस बीच आरबीआई गवर्नर यह कहना नहीं भूले ही देश में पैसों की कमी नहीं है और हम चाहते हैं कि लोग कैशलेस व्यवस्था को आगे बढ़ाने की तरफ ध्‍यान दे। इसी के साथ उन्होंने नोटबंदी के बाद बैंकों जमा हुई रकम के बारे में भी जानकारी दी।

उर्जित पटेल ने कहा कि नोटबंदी के बाद से बैंकों के पास 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों के रूप में 11.55 लाख करोड़ जमा हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने भी लोगों को कैश की दिक्कत ना हो, इसलिए नई करेंसी तेजी से छापी और अभी तक हमने 4 लाख करोड़ नए नोट छापे हैं जो बाजार में आ चुके हैं।