लोगों के आएंगे 'अच्छे दिन', ब्याज दरों में होगी कटौती

नई दिल्ली (6 दिसंबर): नोटबंदी के बाद बैंकों के पास करीब 10 लाख करोड़ रुपये पहुंच चुका है। ऐसे में कल होने वाली आरबीआई की मौद्रिक समीक्षा नीति के बाद ब्याज दरों में कटौती की संभावना जताई जा रही है। सूत्रों के अनुसार, आरबीआई ब्याज दरों में चौथाई फीसदी की कमी कर सकता है।

नोटबंदी के प्रभाव को कम करने के लिए नीतिगत दर में 0.25 फीसदी की कटौती की व्यापक उम्मीद के बीच यह बैठक हो रही है। उर्जित पटेल की अध्यक्षता में होने वाली एमपीसी की यह दूसरी बैठक होगी। ऐसी पहली बैठक अक्टूबर में हो चुकी है। उस समय केंद्रीय बैंक ने रेपो दर में 0.25 फीसदी कटौती कर इसे 6.25 फीसदी कर दिया था।

आरबीआई जनवरी 2015 से रेपो दर में 1.75 फीसदी कटौती कर चुकी है। दर में यदि कोई कटौती नहीं होती है तो अचंभा होगा।