अगला कदम चुनाव में काला धन को रोकना है: अरुण जेटली

नई दिल्ली ( 30 अगस्त ): रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बुधवार को अपनी सालाना रिपोर्ट पेश की। इसमें बताया गया कि नोटबंदी के बाद बैंकों के पास 1000 रुपये की 8 करोड़ 90 लाख प्रतिबंधित नोट वापस नहीं आए। 

जेटली ने कहा कि कि नोटबंदी का उद्देश्य कैश लेन-देन कम करना था। नकदी का आदान-प्रदान 17 प्रतिशत कम हो गया है। नोटबंदी का प्रभाव सही रास्ते पर है और भविष्य में केंद्र जो भा कदम उठाएगा, उसका आधार उस पर आधारित होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार का अगला कदम चुनाव में कालेधन पर रोक लगाना है।

जेटली ने कहा कि जिन लोगों को काले धन से निपटने की कम समझ है वही बैंकों में आई नकदी को नोटबंदी से जोड़ रहे हैं। नोटबंदी का उद्देश्य अर्थव्यवस्था में नकदी पर निर्भरता कम करना, डिजिटलीकरण करना, कर दायरा बढ़ाना और काले धन से निपटना था। नोटबंदी के बाद नकदी की कमी के कारण छत्तीसगढ़ और जम्मू कश्मीर में आतंकवादी और अलगाववादी गतिविधियों में गिरावट आई है।