BREAKING: बंद होंगे 2000 के नोट! एसबीआई ने कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली (21 दिसंबर): जिस दिन से 2000 रुपये का नोट जारी हुआ है, उसी दिन से लोगों में इस बात की आशंका लगी हुई है कि मोदी सरकार कभी भी इन्हें बंद करने का आदेश दे सकते हैं। भारतीय स्‍टेट बैंक (एसबीआई) ने जारी एक रिपोर्ट ने कहा है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने 8 दिसंबर 2017 तक 15,78,700 करोड़ रुपए मूल्‍य के ऊंचे मूल्‍यवर्ग वाले नोटों की छपाई की है, जिसमें से 2,46,300 करोड़ रुपए मूल्‍य के नोटों की आपूर्ति बाजार में नहीं की गई है।

एसबीआई ने रिपोर्ट में कहा कि आरबीआई या तो 2,000 रुपए के नोटों को वापस मंगा सकता है या उच्‍च मूल्‍य वाले करेंसी नोट की छपाई रोक सकता है। सरकार और आरबीआई के आंकड़ों के आधार पर एसबीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि क्‍या 2000 रुपए वाले नोटों को वापस मंगाया जा रहा है? रिपोर्ट में कहा गया है कि इसका मतलब है कि आठ दिसंबर को सर्कुलेशन में कुल करेंसी नोटों में से छोटे मूल्‍य के नोटों को घटाकर ऊंचे मूल्‍य वाले करेंसी नोटों का मूल्‍य 13,324 अरब रुपए था।

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि वित्‍त मंत्रालय द्वारा हाल ही में लोक सभा में दिए गए बयान के मुताबिक, 8 दिसंबर तक आरबीआई ने 500 रुपए के 16 अरब 95 करोड़ 70 लाख नोट और 2000 रुपए के 3 अरब 65 करोड़ 40 लाख नोट छापे हैं। इन नोटों का कुल मूल्‍य 15,787 अरब रुपए बनता है। रिपोर्ट की लेखिका सौम्‍या कांति घोष, ग्रुप चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर, एसबीआई ने कहा कि इसका मतलब है कि आरबीआई द्वारा 2,643 अरब रुपए मूल्‍य (15,787 अरब रुपए - 13,324 अरब रुपए) के बड़े नोटों को छापा तो गया है लेकिन उनकी बाजार में आपूर्ति नहीं की गई।