बैंक खाते में 9 नवंबर के बाद जमा किये हैं पैसे तो जरूर पढ़ें ये खबर...!

नई दिल्ली (16 दिसंबर): तिकड़मों के जरिए बैंकिंग व्यवस्था का दुरुपयोग कर अपनी अघोषित दौलत जमा करने वालों पर रिजर्व बैंक ने शिकंजा कस दिया है। आरबीआई ने उन खातों से पैसे निकालने पर कुछ खास तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं, जिनमें 9 नवंबर के बाद 2 लाख रुपये से ज्यादा पैसे जमा हुए हैं और जिनमें 5 लाख रुपये से ज्यादा बैलेंस है।


आरबीआई के नोटिफिकेशन के मुताबिक पैन कार्ड या फॉर्म 60 जमा किए बगैर इन खातों से पैसे नहीं निकाले जा सकते और न ही ट्रांसफर किए जा सकते हैं। रिजर्व बैंक को यह जानकारी मिली थी कि कुछ मामलों में केवाईसी  के सख्त दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा था। इसके बाद यह नोटफिकेशन जारी किया गया।


 रिजर्व बैंक ने कहा है कि बैंकों को केवाईसी का सख्ती से पालन कराना चाहिए। आरबीआई ने कहा, 'यह नियम उन दोनों तरह के खातों पर लागू होंगे-  जिनमें 5 लाख रुपये या उससे ज्यादा का बैलेंस हो और जिनमें 9 नवंबर 2016 के बाद कुल जमा रकम  2 लाख रुपये से ज्यादा हो।' आरबीआई ने आगे कहा है कि अगर कोई अकाउंट निर्धारित सीमा से ज्यादा रकम जमा/बैलेंस होने की वजह से 'स्मॉल अकाउंट' की श्रेणी के लिए अयोग्य हो जाता है तो उनसे विदड्रॉल की सीमा 'स्मॉल अकाउंट' से विदड्रॉल के नियमों के मुताबिक होगी। स्मॉल अकाउंट से एक महीने में 10 हजार रुपये ही निकालने की इजाजत होती है। इतना ही नहीं, स्मॉल अकाउंट में एक वित्तीय वर्ष में कुल जमा की गई रकम एक लाख रुपये से ज्यादा नहीं हो सकती।