RBI ने भी माना नोटबंदी से घट रही है विकास दर

मुंबई (7 दिसंबर): नोटबंदी के बाद देशभर में नगदी की भारी किल्लत है। लोग अपने कामकाज को छोड़कर कैश के लिए घंटों लाइन में खड़े रहने को मजबूर हैं। कई घंटों तक लाइन में खड़े रहने के बावजूद लोगों को मायूस होकर घर लौटना पड़ रहा है। कैश क्राइसिस का असर देशभर में छोटे से बड़े रोजगार और उद्योग धंधों पर पड़ रहा है। नोटबंदी के बाद से देश में विकास दर में गिरावट की आशंका जताई जा रही है। 

इन सबके बीच आज RBI ने भी माना कि नोटबंदी के बाद देश की विकास में गिरावट दर्ज की जाएगी। RBI के मुताबिक साल 2016-17 में देश की अनुमानित विकास दर में गिरावट दर्ज की जाएगी। RBI ने इस वित्तीय वर्ष में देश की अनुमानित विकास दर 7.6 फीसदी के घटकर 7.1 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। यानी RBI के मुताबिक नोटबंदी की वजह से देश की विकास दर में 0.5 फीसदी की कमी आएगी।

इस विकास दर में कमी का असर न सिर्फ बड़े, मझोलो और छोटे उद्योग धंधों पर पड़ेगा बल्कि इससे बेरोजगारी भी बढ़ने की आशंका जाताई जा रही है।