BREAKING: पीएसी से बोले उर्जित पटेल, कई बैंक खातों में पाया गया है संदेहास्पद ट्राजैक्शन

नई दिल्ली ( 20 जनवरी ): नोटबंदी के बाद लगातार सवालों के घेरे में रहे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर उर्जित पटेल शुक्रवार को लोक लेखा समिति (पीएसी) के सामने पेश हुए। उजर्ति पटेल ने पीएसी से कहा कि कई बैंक खातों में संदेहास्पद ट्राजैक्शन पाया गया है। खासतौर से कोआपरेटिव बैंकों में भी संदेहास्पद ट्रांजैक्शन पाया गया है।   FIU, income tax dept ने आरबीआई से इन खातों की गहन जांच करने को कहा है।पटेल शुक्रवार को संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) के सामने पेश हुए। सूत्रों के मुताबिक, पटेल ने कहा, 'आरबीआई ट्रांजेक्शन कॉस्ट कम कराने के लिए सर्विस प्रोवाइडर्स के साथ लगातार संपर्क में है।' उन्होंने पीएसी से कहा कि डिजिटल पेमेंट पर लगने वाले ट्राजैक्शन कॉस्ट को कम करने के लिए आरबीआई काम कर रही है। और सभी स्टेकहोल्डर बैंक एजेंसी से बात चल रही है।उन्होंने कहा कि शहरी इलाकों में पर्याप्त करेंसी पहुंचाई गई है। हालात को सामान्य बनाने के लिये त्वरित कार्यवाही हो रही है। पीएसी की बैठक में आरबीआई गर्वनर ने कहा किउन्होंने कहा, 'नोटबंदी का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर थोड़े समय के लिए ही असर होगा और लंबे समय में यह फायदेमंद होगा।'इससे पहले भी पीएसी के सामने आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल पेश हुए थे। जिससे पीएसी संतुष्ट नहीं थी। कांग्रेस नेता केवी थॉमस पीएसी प्रमुख हैं।उर्जित पटेल बुधवार को वित्त मामलों की स्टैंडिंग कमेटी के सामने पेश हुए थे। इस दौरान उन्होंने कमेटी के कई सवालों का जवाब नहीं दिया था। स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य और टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने कहा था, 'आरबीआई के गवर्नर यह बताने में असमर्थ रहे की कितने रुपये बैंक में वापस आए।' वित्त मामलों की स्टैंडिंग कमेटी के अध्यक्ष कांग्रेस सांसद एम. वीरप्पा मोइली हैं।