किसानों की कर्ज माफी, GST रेट घटने से बढ़ सकता है राजकोषीय घाटा: आरबीआई

नई दिल्ली ( 6 दिसंबर ): रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आज अपनी मौद्रिक नीति का ऐलान किया। अपने ऐलान में आरबीआई ने ब्यज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। जिससे आपकी ईएमआई जस की तस रहेगी।

आरबीआई गर्वनर उर्जित पटेल ने आज मौद्रिक नीति का ऐलान करते हुए कहा कि ब्याज दर को 6 प्रतिशत से परिवर्तित नहीं किया जाएगा। इसके अलावा उर्जित पटेल ने तीसरी और चौथी तिमाही के लिये अनुमानित महंगाई दर 4.3 से बढ़ाकर 4.7 प्रतिशत कर दिया। जबकि आर्थिक वृद्धि के अनुमान को 6.7 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रखा।

आरबीआई गवर्नर ने आगाह करते हुए कहा कि राज्‍यों में किसानों की कर्ज माफी, पेट्रोलियम प्रोडक्ट पर एक्‍साइज ड्यूटी और वैट कम होने, तमाम वस्तुओं पर जीएसटी रेट घटने से राजकोषीय घाटा बढ़ सकता है। इसके अलावा उर्जित पटेल ने इससे डिजिटल भुगतान को और प्रोत्साहित करने के लिए डेबिट कार्ड से लेनदेन पर शुल्कों को तर्कसंगत बनाने का फैसला किया। 

रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा बैंकों को पूंजी उपलब्ध कराने के लिये पुनर्पूंजीकरण बॉंड पर सरकार के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बैंकों को नई पूंजी उपलब्ध कराना उनमें केवल पूंजी डालना ही नहीं बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में सुधारों को आगे बढ़ाना भी है।