RBI ने पेश की मौद्रिक नीति की समीक्षा, दिया एक 'बड़ा झटका'...

मनीष कुमार, नई दिल्ली (7 जून): रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने आपको EMI में कोई राहत नहीं दी है। ब्याज दरों में कोई बदलाव RBI ने नहीं किया। लेकिन आपकी मुश्किल को और गंभीर बना दिया है रघुराम राजन के बयान ने। जिनके मुताबिक महंगाई अभी और बढ़ने का डर है। 

इस बात का अंदाजा तो पहले से ही था कि आरबीआई इस बार आपकी EMI में कोई कमी नहीं करने वाले हैं। बिल्कुल वही हुआ। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने जब मौद्रिक नीति का समीक्षा पेश की तो ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। मतलब साफ है कि महंगे ब्याज दरों से फिलहाल आपको कोई राहत नहीं मिल रही। लेकिन मुसीबत यहां खत्म नहीं हुई है। आरबीआई ने तो अब महंगाई और बढ़ने का डर जता दिया है। 

अब आपको बताते हैं कि आखिर क्यों आरबीआई को महंगाई बढ़ने का डर सता रहा है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से महंगाई बढ़ने का सबसे ज्यादा खतरा है।  इसके बाद सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू होते ही महंगाई बढ़ने का भी डर है। 

आरबीआई के मुताबिक सब्जियां, फल, चीनी, मीट-मछली के दाम बढ़ने से रिटेल महंगाई बढ़ी है। तो दाल की कीमतों में अप्रैल महीने में फिर से उछाल देखा गया है। तेल महंगा हुआ है तो ट्रांसपोर्ट सेवा पर भी महंगाई की मार पड़ी है। इसी महंगाई बढ़ने के डर से आरबीआई ने अभी ब्याज दरों में कोई राहत नहीं दी। लेकिन ये जरूर कहा है कि आगे हालात बेहतर रहे तो आपकी EMI में कुछ राहत जरूर दी जाएगी। 

महंगाई का डर आरबीआई को जो सता रहा है, उसकी वजह मॉनसून भी है। देश के वित्त मंत्री लगातार भरोसा दे रहे हैं कि इस बार मॉनसून अच्छा रहेगा। आरबीआई की नजर भी मॉनसून पर ही है। जो देश में दस्तक देने ही वाला है। यानी अब आपकी जेब को कुछ राहत मिले इसके लिए सरकार से नहीं भगवान से मनाइए। बादल बरसेंगे तो आप भी EMI में कमी के लिए नहीं तरसेंगे।