नोटबंदी के दौरान डीडी बनवाने वालों की RBI ने मांगी जानकारी

नई दिल्ली (10 फरवरी): नोटबंदी के दौरान कालेधन के कुबेरे ने अपने पैसे को सफेद करने की हर जुगत लगाई। लेकिन अब इनकम टैक्स विभाग ऐसे लोगों को चुन-चुनकर निशाना बना रहा है। ताजा जानकारी के अनुसार, जिन्होंने नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 के नोटों को बदलने के लिए डिमांड ड्राफ्ट का इस्तेमाल किया, अब उनकी अब खैर नहीं है।

आरबीआई की ओर से भेजे बैंकों को एक नोटिस में कहा ऐसे सभी डिमांड ड्राफ्ट की जांच की जाए और इसके अलाव जिन लोगों ने लोन चुकाने के लिए भी एडवांस में डिमांड ड्राफ्ट बनवा लिए थे उनके बारे में भी जानकारी देने के लिए कहा गया है।

मिली जानकारी के मुताबिक आरबीआई की ओर से सभी बैंकों को को लिखी चिट्ठी में कहा गया है कि भारी संख्या में लोगों ने अपने पुराने 500 और 1000 के नोटों को बदलने के लिए डीडी का इस्तेमाल किया है और उसके बाद उनको कैंसिल भी करवाया दिया।

डीडी को तीन महीने के बाद भी बेहद कम चार्ज पर उसको कैंसिल कराया जा सकता। कुल मिलाकर इतना तो तय है कि केंद्र एजेंसियां जांच पूरी करने के बाद नोटबंदी के दौरान किए गए हेरफेर पर बड़ी कार्रवाई करने के मूड में हैं।