CBI विवाद के बीच RBI के डिप्टी गवर्नर का बयान, कहा- सरकार खेल रही है T20 और हम खेलते हैं टेस्ट

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (27 अक्टूबर): सीबीआई विवाद के बीच आरबीआई के डिप्टी गवर्नर ने केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल उठाया है। आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने केंद्र सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हुए कहा कि केंद्र सरकार टी 20 खेल रही है जबकि आरबीआई टेस्ट खेलता है। विरल आचार्य ने केंद्रीय बैंक की स्वायत्ता का मुद्दा उठाते हुए कहा कि देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए रिजर्व बैंक को अधिक स्वायत्ता देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा नहीं किया गया तो परिणाम विनाशकारी हो सकते हैं। विरल आचार्य के भाषण को आरबीआई की वेबसाइट पर भी पोस्ट किया गया है।

Image credit: Google

आचार्य ने साफ कहा कि अगर सरकारें केंद्रीय बैंक की आजादी का सम्मान नहीं करेंगी तो उन्हें बाजारों के गुस्से का सामना करना पड़ेगा। डिप्टी गवर्नर आचार्य की यह टिप्पणी ऐसे वक्त में आई है, जब केंद्र सरकार देश के पेमेंट सिस्टम के लिए एक अलग रेग्युलेटर बनाने पर विचार कर रही है। आरबीआई इस पर सख्त आपत्ति जता रहा है। आरबीआई का कहना है कि भुगतान के लिए अलग से विनियामक की आवश्यकता नहीं है और अगर सरकार ऐसा करना भी चाहती है तो उसका नियंत्रण आरबीआई के हाथ में होना चाहिए। इसके अलावा सरकारी अधिकारियों की ओर से कई बार आरबीआई पर यह दबाव भी डाला गया है कि वह कुछ बैंकों को लेंडिंग के नियमों में ढील दे, जबकि उनका कैपिटल बेस काफी कमजोर है। आचार्य ने कहा, 'सेंट्रल बैंक की स्वायत्ता को नजरअंदाज करना विनाशकारी हो सकता है। इससे कैपिटल मार्केट में भरोसे का संकट पैदा हो सकता है।'

डिप्टी गवर्नर आचार्य ने अर्जेंटीना के संवैधानिक संकट का उदाहरण दिया जहां सरकार ने केंद्रीय बैंक के अधिकारों में कटौती कर दी थी। उन्होंने कहा कि सरकार का निर्णय टी-20 खेलने जैसा था। इसके उलट, सेंट्रल बैंक टेस्ट खेलता है और हर सेशन जीतने की कोशिश करता है।