जेएनयू में नारेबाजी का वीडियो सही, CBI की फॉरेंसिक लैब ने बताया ऑथेंटिक

नई दिल्ली (12 जून): जेएनयू देशद्रोह विवाद में मीडिया में सामने आए वीडियो को फॉरेंसिक लैब ने सही करार दिया है। पुलिस ने शनिवार को दावा किया कि सीबीआई की फॉरेंसिक लैब ने फुटेज को ऑथेंटिक बताया है।

9 फरवरी को एक कल्चरल इवेंट के दौरान नारेबाजी का यह वीडियो सामने आया था। इसके बाद जेएनयू स्टूडेंट्स यूनियन के लीडर कन्हैया कुमार और दो अन्य के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया गया था। आरोप है कि इस प्रोग्राम में अफजल गुरु और कश्मीर की आजादी के सपोर्ट में नारेबाजी की गई थी।

इससे पहले भी दिल्ली पुलिस ने प्रोग्राम की चार वीडियो क्लिप गांधीनगर बेस्ड सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबरेटरी (CFSL) भेजी थी। CFSL ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि ये चारों क्लिप सही हैं। हालांकि दिल्ली सरकार ने भी इस मामले में जांच के आदेश दिए थे और कंट्रोवर्शियल प्रोग्राम की 7 वीडियो क्लिपिंग हैदराबाद बेस्ड ट्रुथ लैब को भी भेजी थी। ट्रुथ लैब ने अपनी जांच में पाया था कि 2 क्लिप के साथ छेडछाड़ की गई थी जबकि बाकी क्लिप्स सही थीं।