जिसे यो-यो टेस्ट सीरियस नहीं लगता, जा सकता है: शास्त्री

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 जून): भारतीय टीम ब्रिटेन दौरे पर रवाना होने से पहले यो-यो टेस्ट खूब चर्चा में बना रहा। हेड कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली इसको लेकर काफी गंभीर भी हैं। भारत से रवाना होने से पहले दोनों ने बताया कि क्यों यो-यो टेस्ट टीम और खिलाड़ियों के लिए बेहद जरूरी है। रवि शास्त्री ने तो इसको लेकर काफी बड़ा बयान भी दे डाला।पूर्व मुख्य चयनकर्ता संदीप पाटिल भले ही भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए यो-यो टेस्ट को बेंचमार्क माने जाने के कड़े आलोचक हों लेकिन शास्त्री और कोहली ने अपना पक्ष स्पष्ट करते हुए कहा, आप टेस्ट पास कीजिए और भारत के लिए खेलिए। शास्त्री ने स्पष्ट किया कि यो-यो टेस्ट बरकरार रहेगा और कोहली ने भी कहा कि इसे भावुक होने के बजाय 'कड़े फैसले' के रूप में देखा जाना चाहिए जिससे टीम को फायदा ही मिलेगा।हाल में आईपीएल में शानदार बल्लेबाजी करने वाले अंबाती रायडू यो-यो टेस्ट में 16.1 प्वॉइंट्स नहीं ला पाए थे, जिसके बाद उन्हें टीम से बाहर होना पड़ा। शास्त्री ने चिर परिचित अंदाज में कहा, 'आप के अंदर कुछ निश्चित काबिलियत है, लेकिन अगर आप फिट हो तो आप इसमें निखार ला सकते हो। इसलिये हम यो-यो टेस्ट पर जोर देते हैं। अगर किसी को लगता है कि ये बहुत ज्यादा गंभीर नहीं है तो ये उनकी भूल है। वो जा सकते हैं।'आपको बता दें कि साथ ही कोहली ने भी उदाहरण दिया कि यो-यो टेस्ट जसप्रीत बुमराह जैसे तेज गेंदबाज के दमखम और सहनशक्ति को दर्शाने का सबूत है। कोहली ने कहा, 'लोग शायद एक छोटी सी चीज नहीं देख पाते जो एक विशेष टेस्ट मैच के दौरान हुई थी लेकिन मुझे लगता है कि इससे काफी अंतर पैदा होता है।' उन्होंने कहा, 'जसप्रीत बुमराह अंतिम टेस्ट के दौरान अपने आखिरी स्पैल में 144 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी कर रहे थे। और यहीं फिटनेस की असली परीक्षा होती है। जब आपके पास ऐसे लोग होते हैं जो फिट हैं, अच्छे प्रदर्शन के भूखे हैं और तैयार हैं तो आप सिर्फ प्रतिस्पर्धा नहीं करते बल्कि आप मैचों में जीत हासिल करते हो।'