भगवान कृष्ण के नाम के राशन कार्ड पर लिया 40 साल तक राशन, अब खुली पोल

नई दिल्ली ( 27 नवंबर ): राजस्थान में भगवान कृष्ण के नाम का राशन कार्ड सामने आया है। इस पर पिछले चालीस सालों से राशन लिया जा रहा था। इसकी भनक सरकारी महकमे को नहीं थी। मामला सत्यापन के वक्त तब खुला जब राशन लेते वक्त अंगूठा लगाना ज़रूरी कर दिया गया।
राशन कार्ड के जरिए राजस्थान में भगवान का पता सामने आया है। 

इस पते पर भगवान का गैस कनेक्शन तो नहीं, लेकिन भगवान कृष्ण यानि मुरली मनोहर के नाम का राशन कॉर्ड मिला है। इसमें भगवान मुरली मनोहर मुखिया हैं जिनकी उम्र 70 साल है। राशन कार्ड में पत्नी ठकुरानी हैं, जिनकी उम्र 65 साल बताई गई है। राशन कार्ड में भगवान की बहन 65 साल की तुलसी को बताया गया है। चौथे सदस्य के नाम पर राशन कार्ड में गणेश दर्ज है। पांचवां नाम काजीखेड़ा मंदिर के 70 साल के पुजारी बाबूलाल का है जिन्होंने राशन कार्ड बनवाया है और इस कार्ड पर पिछले चालीस साल से ज्यादा वक्त से राशन भी ले रहे थे।

भगवान के राशन कार्ड का खुलासा कार्ड के सत्यापन के वक्त हुआ। रसद विभाग ने राशन कार्ड धारक का राशन डीलर की पास मशीन पर अंगूठा लगाना जरूरी कर दिया है। पुजारी बाबूलाल से भी सत्यापन के लिए भगवान और उनके रिश्तेदारों को बुलाकर लाने को कहा गया, लेकिन पुजारी ने ऐसा करने से मना कर दिया और खुद को परेशान करने का आरोप भी रसद विभाग पर लगाया दिया।
मामला खुलने के बाद रसद विभाग ने भगवान के नाम पर बना राशनकार्ड निरस्त कर दिया है, लेकिन ये जरूर मान रहे हैं कि ऐसे कार्ड कई लोगों ने बना रखे हैं जिनकी पहचान की जा रही है। भगवान का राशन कार्ड सामने आने के बाद सवाल उठ रहे हैं कि चालीस से ज्यादा साल से भगवान के नाम पर राशन लिया जा रहा था, लेकिन इसकी भनक किसी को नहीं लगी। राशन कार्ड वाला राशन देता रहा और रसद विभाग को भी इसकी खबर नहीं लगी।