शिपिंग, एविएशन, ऑइल और गैस कंपनियों पर रैनसमवेयर अटैक

नई दिल्ली (28 जून): देश के बड़े बन्दरगाहों में से एक जेएनपीटी के जीटीआई टर्मिनल पर साइबर अटैक की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि रैन्समवेयर अटैक की वजह से बंदरगाह पर सभी सिस्टम बंद कर दिए गए हैं। कंटेनर उतारने और चढ़ाने का काम रुका हुआ है।


इसके अलावा जवाहर लाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट पर गेटवे टर्मिनल्स इंडिया को ऑपरेट करने वाली एपी मोलर मर्सेक कंपनी भी इस अटैक की वजह से पूरी तरह से बंद रही। यह कंपनी पोर्ट पर करीब दो करोड़ कंटेनर्स को हैंडल करती है। पोर्ट के अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल कंपनी इस हमले से निबटने और भविष्य में इस तरह के हमले से बचने की तैयारी कर रही है।


रिपोर्ट्स आ रही हैं कि कई कंपनियों ने सायबर अटैक की पुष्टि की है। खबरें ये भी आ रही हैं कि पीटरैप को पीएट्जा नाम के पुराने रैनसमवेयर का अडवांस वर्जन है। बता दें कि पीएट्जा ने 20 नामी कंपनियों पर अटैक कर उनकी कंप्यूटर स्क्रीन को लॉक कर दिया था और उन्हें अनलॉक करने के बदले इस 300 डॉलर की मांग की गई थी।


भारत के अलावा रैन्समवेयर ने कई देशों को निशाना बनाया है। इनमें भारत और यूरोप भी शामिल हैं। मंगलवार को रैन्समवेयर ने यूके, रूस, फ्रांस, स्पेन में कंज्यूमर, शिपिंग, एविएशन, ऑइल और गैस कंपनियों पर हमला किया।

यूक्रेन से शुरू हुआ ये सायबर अटैक धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल गया, जिसमें भारत भी शामिल है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार रात को इस हमले के बारे में प्रभावित कंपनियों को जानकारी मिली। ऐंटीवायरस सॉफ्टवेयर्स प्रोवाइड करने वाली कंपनी ने भी इस हमले की पुष्टि की है।