कांग्रेस ने कहा, अगर एक्टिविस्ट माओवादी हैं, तो क्या मोदी अठावले के खिलाफ कार्रवाई करेंगे

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 8 जून ): कांग्रेस ने भीमा-कोरेगांव हिंसा मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने शुक्रवार को कहा कि कुछ लोगों की गिरफ्तारी को लेकर केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के बयान से भाजपा का ‘दोमुंहापन’ फिर से बेनकाब हो गया है।रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, भाजपा का दोहरा रवैया और दोमुंहापन फिर से बेनकाब हुआ। केंद्रीय मंत्री अठावले कहते हैं कि दलित कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी अन्याय है और एलगार परिषद का हिंसा से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र सरकार गिरफ्तार लोगों को माओवादी सदस्य बता रही है। प्रश्न यह है कि झूठ कौन बोल रहा है?रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, अगर ऐक्टिविस्ट माओवादी हैं तो क्या मोदी जी रामदास अठावले के खिलाफ कार्रवाई करेंगे? सुरजेवाला ने कहा, रामदास अठावले ने प्रधानमंत्री मोदी के गुरूजी संभाजी भिडे की गिरफ्तारी की मांग की है। प्रधानमंत्री 2014 में संभाजी के पास गए थे और सांगली की एक जनसभा में उनकी तारीफ की थी। क्या यही कारण है कि महाराष्ट्र सरकार संभाजी और मिलिंद एकबोटे के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है?उन्होंने कहा, आतंकवाद, नक्सलवाद और चरपमपंथ अस्वीकार्य है। कांग्रेस से बेहतर यह कोई नहीं जानता, जिसने महात्मा गांधी, इंदिरा जी, राजीव जी, बेअंत सिंह, (विद्याचरण) शुक्ला जी और नंद कुमार पटेल तथा कई दूसरे नेताओं को खोया है। सुरजेवाला ने कहा कि समय की मांग है कि भीमा-कोरेगांव के मामले में निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।