526 करोड़ का राफेल 1570 करोड़ में क्यों खरीद रहे हैं पीएम मोदी: कांग्रेस

नई दिल्ली ( 17 नवंबर ): राफेल फाइटर्स की डील पर सत्ताधारी बीजेपी और प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के बीच घमासान मचा हुआ है। कांग्रेस ने राफेल फाइटर्स की डील को लेकर सत्ताधारी बीजेपी पर आरोप लगाया है। 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि राफेल फाइटर्स एयरक्राफ्ट की डील को लेकर मोदी सरकार लगातार झूठ बोल रही है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले को गुप्त रखकर सरकार देश को भ्रमित करने का प्रयास कर रही है। 

सुरजेवाला ने कहा कि निर्मला सीतारमण ने रक्षा मंत्रालय को बीजेपी मंच बनाकर इस्तेमाल किया, लेकिन सवाल का जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि 36 राफेल फाइटर्स एयरक्राफ्ट की कीमत क्या है। सुरजेवाला ने कहा कि सरकार कीमत बताने से क्यों बच रही है? उन्होंने दावा किया कि जहाजों की कीमत 526 करोड़ है जबकि सौदा 1570 करोड़ का हुआ है। उन्होंने कहा कि राफेल फाइटर्स एयरक्राफ्ट की कीमत 3 गुना क्यों बढ़ी? इसका जवाब पीएम या रक्षा मंत्री क्यों नही दे रहे।

उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड से काम छीनकर कॉन्ट्रैक्ट साइन करने के 9वें दिन रिलायंस की कंपनी को दे दिया। सरकार की कंपनी छोड़कर निजी कंपनी का हित क्यों देखा मोदी जी ने?

इससे पहले रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल लड़ाकू विमानों के सौदे का बचाव किया और कहा कि इस सौदे पर आरोप लगाना बेशर्मी है। इस तरह के आरोप लगाने से सुरक्षा बलों का हौसला घटेगा। उन्होंने कहा है कि यूपीए के शासन में प्रति विमान जिस कीमत पर बात हो रही थी, एनडीए सरकार ने उससे काफी बेहतर कीमत में विमान खरीदे हैं। 

शुक्रवार को एक पत्रकार सम्मेलन में रक्षा मंत्री ने 10 साल तक रक्षा आधुनिकीकरण रोके रखने के लिए कांग्रेस को दोष दिया। रक्षा मंत्री ने कहा कि 36 राफेल विमानों का सौदा इमर्जेंसी खरीदारी थी क्योंकि कांग्रेस ने सेनाओं की रक्षा तैयारियों पर ध्यान नहीं दे सकी थी। 

कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार 10 साल तक फैसले नहीं ले सकी, जबकि यह वायु सेना की अहम जरूरत थी। अब वे दाम पर सवाल उठा रहे हैं। इससे दुख होता है। कांग्रेस अब राजनीति कर रही है।