रांची: बेटी से प्यार पसंद ना था, बेटे के साथ टीचर ने किया छात्र का मर्डर

रांची(11 फरवरी): रांची के छात्र विनय महतो की मौत की गुत्थी सुलझ गई है। विनय़ की हत्या उसी स्कूल की टीचर ने अपने बेटे के साथ मिलकर की थी।.ऐसा इसलिए क्योंकि विनय टीचर की बेटी से प्यार करता था। पुलिस ने इस मामले में विनय की टीचर, उसके पति और दो बच्चों को गिरफ्तार किया है।

रांची पुलिस ने विनय की हत्या को ऑनर किलिंग का मामला बताया है, यानि बदले के लिए विनय की हत्य़ा की गई और इस हत्या के आरोप में पुलिस ने विनय के स्कूल की शिक्षक नाजिया हुसैन , उनके पति और बच्चों को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस के मुताबिक सांतवीं क्लास में पढ़नेवाले विनय की उसकी स्कूल में पढ़ानेवाली शिक्षिका की बेटी से अच्छी दोस्ती थी। लेकिन ये दोस्ती शिक्षिका नाजिया को पसंद नहीं थी। और इसी नाराजगी ने मासूम विनय की जान ले ली। विनय को अपनी बेटी से दूर करने के लिए शिक्षिका ने अपने बेटे के साथ मिलकर हत्या की साजिश रच डाली। 

पूरे प्लान के साथ 4 तारीख की देर रात को विनय को शिक्षिका नाजिया के बेटे ने अपने घर पर ये कह कर बुलाया कि उसकी मां ने उसके लिए बढ़िया सा खाना बनाया है। और ये शर्त रखी कि वो रात के अंधेरे में आए ताकि उसे कोई देख ना ले। लेकिन सीसीटीवी की ये तस्वीरों उस रात की अहम ग्वाह साबित हुई जिसमें विनय देर रात स्कूल से बाहर जाते दिखाई दे रहा था। नाजिया के बेटे के न्यौते पर विनय देर रात उसके घर चला गया तो शिक्षिका के बेटे ने अपनी बहन के साथ उसकी दोस्ती के मुद्दे को उठाया। इस बात पर दोनों के बीच तीखी बहस हुई और फिर नाजिया के बेटे ने विनय की निर्ममता से पिटाई कर दी।

विनय को मारने के लिए टीचर नाजिया ने इमारत की पहली मंजिल से विनय को नीचे फेंकने में बेटे की मदद भी की। और पूरी वारदात के बारे में उसने रांची से बाहर रह रहे अपने पति को जानकारी दी। पति ने मामले से जुड़े तमाम सबूतों को तुरंत मिटा देने की बात कही।

बेटे और मां ने इस वारदात को अंजाम देने के बाद घर का दरवाजा बंद कर लिया, लेकिन स्कूल के ही एक आर्ट टीचर की नजर करीब बीस मिनट के बाद विनय पर पड़ी। जो फर्श पर खून से लथपथ पड़ा था। फौरन आर्ट टीचर ने फ्लैट में मौजूद लोगों को जगाया और विनय को लेकर गुरुनानक हॉस्पीटल पहुंचे लेकिन वहां से डॉक्टरों ने उसे रिम्स रेफर कर दिया। जहां ले जाते वक्त रास्ते में ही विनय की मौत हो गई।

दरअसल सफायर इंटरनेशनल स्कूल में पढ़नेवाले विनय महतो के परिवार वालों को 5 फरवरी को स्कूल के शिक्षकों ने उसके बच्चे बीमार होने की खबर दी थी। परिवार वाले जब तक अस्पताल पहुंचे तब तक विनय की मौत हो चुकी थी। पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट में बच्चे के शरीर पर चोट के काफी निशान पाए गए थे। यही नहीं, उसका लिवर भी डैमेज हो गया था । बावजूद इसके स्कूल प्रशासन इस बात पर कायम था कि बच्चे की मौत बीमारी से हुई है। लेकिन अब रांची पुलिस ने विनय की मौत का एक एक राज खोल दिया है और सभी आरोपियों को जेल भेज दिया है।