आसुरी शक्तियों से घिरे हुए हैं मुलायम, धर्मयुद्ध में अखिलेश के साथ: रामगोपाल

नई दिल्ली (23 अक्टूबर): समाजवादी पार्टी से निकाले जाने के बाद रामगोपाल यादव ने चुप्पी तोड़ी है। रामगोपाल यादव ने एक चिट्ठी लिखकर कहा है कि नेताजी मुलायम सिंह ना सिर्फ मेरे बड़े भाई हैं बल्कि राजनीति में वह मेरे गुरु भी रहे हैं और रहेंगे। मैं ताउम्र उनका सम्मान करता रहूंगा।

रामगोपाल यादव ने आगे लिखा है, ''इस वक्त वह जरूर कुछ आसूरी शक्तियों से घिरे हुए हैं। जब वह उन ताकतों से मुक्त होगे तक उन्हें सच्चाई का एहसास होगा। मैं समाजवादी पार्टी में रहूं या ना रहूं पर इस धर्मयुद्ध में मैं अखिलेश यादव के साथ हूं और उन्हें दुबारा मुख्यमंत्री बनाने तक रहूंगा।''

उन्होंने लिखा है कि मुझे पार्टी से निकाले जाने का कोई दुख नहीं है। मेरे ऊपर जो घटिया आरोप लगाए गए हैं, उससे मुझे पीड़ा जरूर हुई है। लोकतांत्रित राजनीति में अन्य दलों के नेताओं से मिलना कोई अपराध नहीं है।

पढ़ें पूरा पत्र: