बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि पर 11 लाख का जुर्माना

हरिद्वार (15 दिसंबर): बाबा रामदेव की कंपनी 'पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड' एक बार फिर से विवादों में है।  एडीएम हरिद्वार (न्याय निर्णायक अधिकारी) ने 'पतंजलि' आयुर्वेद की पांच उत्पादन यूनिटों पर 11 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। जिला प्रशासन ने मिस ब्रांडिंग के मामले में पतंजलि योगपीठ के 5 उत्पादों के प्रचार को गलत ठहराते हुए ये जुर्माना लगाया है।

खाद्य सुरक्षा अधिकारी योगेंद्र पांडे ने अगस्त 2012 में दिव्य योग मंदिर के पतंजलि स्टोर पर छापा मारकर कच्ची घानी सरसों तेल, नमक, बेसन, शहद और पाइन एप्पल जेम के चार-चार सैंपल भरे थे। रुद्रपुर स्थित प्रयोगशाला से आई जांच रिपोर्ट के आधार पर नवंबर 2012 में अपर जिलाधिकारी न्यायालय में इस संबंध में वाद दायर किया गया।

गौरतलब है कि  जिस समय सेंपल लिए गए थे, उस दौरान पतंजलि योगपीठ ने इसे राज्य सरकार की दुर्भावनापूर्ण कार्रवाई करार दिया था। एडीएम एलएन मिश्रा की अदालत में जांच रिपोर्ट और सुनवाई के बाद आरोग्य कच्ची घानी तेल की मिस ब्रांडिंग करने पर ढाई लाख, नमक पर ढाई लाख, जैम पर ढाई लाख, बेसन पर डेढ़ लाख और शहद पर दो लाख का जुर्माना लगाया है।

साथ ही आदेश दिया कि अदायगी न करने पर इसकी भूराजस्व की तरह वसूली की जाएगी। न्यायालय ने अपने आदेश में यह भी स्पष्ट किया है कि इन उत्पादों को बनाने वाली कंपनी तीस दिन के भीतर इस मामले में खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण में अपील करने का अधिकार होगा।