गजब: 2 घंटे में तैयार हो जाते हैं ये टॉयलेट, शादी में लड़कियों को दिए जा रहे हैं गिफ्ट

पुणे (24 फरवरी): कहते हैं अगर आपने कुछ करने के लिए ठान लिया तो सारी कायनात आपकी मदद में जुट जाता है। ये कहावत एकबार फिर सच साबित हुआ है। सतारा जिले के एक गरीब परिवार में जन्मे रामदास माने महज 2 घंटे में टॉयलेट जिसे घर की इज्जत भी कहते हैं बनकार तैयार कर देते हैं। रामदास ने थर्मोकॉल पर सीमेंट कोटिंग की मदद से महज दो घंटे में तैयार होने वाला टॉयलेट बनाने का तरीका खोज निकाला है।

 

रामदास माने का मसकद है कि इस तकनीक से दूरदराज के इलाकों के लोगों को भी आसानी से शौचालय उपलब्ध करवाए जा सकेंगे। माने ने 25 लड़कियों को शादी में ये टॉयलेट उपहार में दिए हैं जिनके यहां शौचालय नहीं था। साथ ही माने लोगों को इन शौचालयों को तोहफे में देने की भी अपील कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि रामदास माने की तकनीक से बनाए जाने वाले इस टॉयलेट केवल 22 हजार रुपए खर्च आता है और इसे बनाने में मात्र दो घंटे का समय लगता है। 

माने को उनके इस काम के लिए कई पुरस्कारों से भी नवाजा जा चुका है। 2016 में उन्हें सेनिटेशन लीडरशिप अवार्ड से नवाजा गया था। वे 2007 में लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड बना चुके हैं। भारत में 80 फीसदी थर्मोकॉल उनकी कंपनी के द्वारा बनाई गई मशीनों से बनाया जाता माने को जैसे ऑस्ट्रेलिया और उरुग्वे से भी पुरस्कार मिले हैं।